राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार बनाए जाने पर रामनाथ कोविंद को पीएम ने दी बधाई

437
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

नई दिल्ली। भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने प्रेस कांफ्रेस कर एनडीए की ओर से राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार की घोषणा कर दी। भाजपा संसदीय बोर्ड की बैठक के बाद अमित शाह ने बताया कि बिहार के राज्यपाल राम नाथ कोविंद को राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार बनाया गया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रामनाथ कोविंद को बधाई देते हुए ट्वीट किया कि ‘मुझे यकीन है वे अच्छे राष्ट्रपति साबित होंगे, उनके ज्ञान से देश को लाभ होगा। पीएम मोदी ने ट्वीट में कहा कि ‘कोविंद संविधान के अच्छे जानकार हैं’।

मोदी ने एक अन्य ट्वीट में कहा, “कोविंद के कानूनी क्षेत्र में अपनी उत्कृष्ट अनुभव के साथ संविधान को लेकर उनके ज्ञान और उनकी समझ से देश को लाभ होगा।”

मोदी ने कहा कि किसान के बेटे कोविंद ने अपना पूरा जीवन गरीबों और वंचितों की सेवा में समर्पित कर दिया है।

भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने कहा कि हमने सभी पार्टियों से बात करने के बाद कोविंद जी के नाम पर निर्णय लिया गया है। पीएम मोदी ने इस संबंध में सोनिया गांधी और पूर्व पीएम मनमोहन सिंह से बात की है। सोनिया ने कहा कि हम बातचीत करके आगे के फैसले के बारे में बताएंगे। अमित शाह ने बताया कि रामनाथ कोविंद जी पिछड़ों और गरीबों के लिए हमेशा संघर्ष करते रहे हैं। रामनाथ कोविंद का जन्म 1 अक्टूबर 1945 को उत्तर प्रदेश के कानपुर देहात में हुआ। भाजपा दलित मोर्चा के अध्यक्ष रह चुके हैं। यूपी से दो बार राज्यसभा रहे हैं। पेशे से वकील कोविंद ऑल इंडिया कोली समाज के अध्यक्ष भी रहे हैं। 1994 में यूपी से पहली बार राज्यसभा सांसद चुने गए। 2006 तक सांसद रहे। कई संसदीय कमेटियों के चेयरमैन भी रह चुके हैं।


वहीं लखनऊ में सोमवार को सीएम योगी आदित्यनाथ ने अपने आवास पर प्रेस कांफ्रेंस करके पीएम मोदी और बीजेपी राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के नेतृत्व की सराहना की। उन्होंने कहा कि रामनाथ कोविंद को राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार घोषित करने पर उन्हें धन्यवाद देता हूं।


राष्ट्रपति चुनाव के लिए एनडीए के उम्मीदवार रामनाथ कोविंद को बनाए जाने के बाद यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि प्रधानमंत्री जी ने यूपी से किसी ‘दलित समुदाय के व्यक्ति को राष्ट्रपति प्रत्याशी बनाया ये एक गौरव का विषय है।


सीएम योगी ने कहा कि रामनाथ कोविंद वर्तमान में बिहार के गर्वनर है। वहीं गरीब परिवार के व्यक्ति को सम्मान देना ये एक खुशी की बात है। क्योंकि दलित समुदाय के व्यक्ति को सर्वोच्च सम्मान दिया गया है।