पंजाब में परिजनों को सौंपे गये इराक से आए शव, सरकार ने 5 लाख के मुआवजे का किया ऐलान

Written by: April 2, 2018 4:23 pm

नई दिल्ली। इराक के मोसुल में बंधक बना कर मार डाले गए 38 भारतीयों के शव आज पंजाब के अमृतसर एयरपोर्ट पर लाए जाने के बाद शवों को उनके परिवारजनों को सौंप दिया गया। विदेश राज्यमंत्री वीके सिंह विशेष विमान से शव लेकर अमृतसर पहुंचे थे। यहां शवों को लेने के लिए पंजाब सरकार के मंत्री भी मौजूद रहे।

बता दें इराक में जान गंवाने वालों में सबसे ज्यादा 27 नागरिक पंजाब से थे। भावुक परिजन शवों को लेने एयरपोर्ट पहुंचे। 2014 में खूंखार आतंकी संगठन आईएसआईएस ने 39 भारतीय को अगवा कर उनकी हत्या कर दी थी। लेकिन एक मृतक की शिनाख्त न हो पाने के कारण 38 भारतीयों के शव ही वापस लाए जा सके।

Punjab Mortal remains

पिछले तीन साल से भारत सरकार की तरफ से उनका पता लगाने की कोशिश की जा रही थी। काफी मशक्कत के बाद डीएनए मिलान के बाद मारे गए भारतीयों की शिनाख्त हो सकी। भारत सरकार में विदेश राज्यमंत्री जनरल वीके सिंह भारतीयों के शवों को लाने के लिए इराक गए थे।

Punjab Mortal remains

राज्य सरकार ने किया मुआवजे का ऐलान

राज्य सरकार में मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू ने एयरपोर्ट पहुंचकर परिजनों को ढांढस बंधाया। आम आदमी पार्टी नेता संजय सिंह और पूर्व अकाली नेता विरसा सिंह वलतोहा भी एयरपोर्ट पर परिजनों से मिले। पंजाब सरकार ने मारे गए भारतीयों के परिजनों को 5-5 लाख मुआवजा और परिवार के एक सदस्य को नौकरी देना का एलान किया है।

vk singh

बता दें कि विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने 20 मार्च को संसद में इराक में 39 भारतीयों के मारे जाने की जानकारी दी थी। उन्होंने बताया था कि इराक के मोसुल में भारतीयों को आतंकी संगठन ने अगवा कर लिया था और फिर उनकी हत्या कर दी थी। सुषमा स्वराज ने डीएनए मिलान के द्वारा शवों की शिनाख्त किए जाने की बात बताई थी।