केजरीवाल की इस बात से पलटने की वजह कहीं उनकी सीएम की कुर्सी ना छुड़वा बैठे…

Avatar Written by: March 31, 2018 8:00 am

नई दिल्ली। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने 31 मार्च से भूख हड़ताल पर बैठने से इंकार कर दिया है। जिसके बाद व्यापारी संगठन कैट ने इसे व्यापारियों के साथ धोखा बताते हुए सीएम केजरीवाल से इस्तीफे की मांग की है।

arvind kejriwal

कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स यानी कैट के महासचिव प्रवीण खंडेलवाल ने भूख हड़ताल स्थगित होने के बाद कहा कि सीएम अरविंद केजरीवाल द्वारा सीलिंग के खिलाफ 31 मार्च से शुरू होने वाले अनशन को अनिश्चितकाल के लिए स्थगित किया जाना दिल्ली के व्यापारियों के साथ बड़ा विश्वासघात है।

Arvind Kejriwal,CM Delhi

दिल्ली के पूर्व मंत्री और बागी आम आदमी पार्टी नेता कपिल मिश्रा ने तंज कसते हुए ट्वीट किया, ”केजरीवाल के दफ्तर से पत्रकारों को कॉल – सिलिंग पर भूख हड़ताल कैंसिल सीएम ने कुछ पत्रकारों से हाथ जोड़कर कहा – ‘इज्ज़त बचा लो, भूख हड़ताल से बचने का रास्ता बताओं, उस दिन जनता के सवालों से बचने के लिए बोल दिया था।”

दिल्ली भाजपा के अध्यक्ष मनोज तिवारी ने कहा कि यह दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल द्वारा एक और यू टर्न है। उन्होंने ट्वीट किया, ‘केजरीवाल द्वारा एक और यू टर्न, अब वह भूख हड़ताल नहीं करेंगे, लेकिन यह कोई नया नहीं है, उनका पूरा राजनीतिक करियर ही लोगों की उम्मीद को बढ़ा देना और फिर दूसरी दिशा में बढ़ जाना रहा है, आप ने दिल्ली के व्यापारियों और दिल्ली वालों को एक बार फिर से धोखा दिया है।’

भूख हड़ताल पर बैठने से इंकार करने के बाद सीएम केजरीवाल ट्विटर पर लोगों के निशाने पर आ गए।