विवादित बाबरी ढांचे को लेकर कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद का बड़ा बयान

Avatar Written by: December 20, 2018 3:48 pm

नई दिल्ली। राम मंदिर निर्माण को लेकर जैसे-जैसे बहस आगे बढ़ रही है। वैसे-वैसे देश के एक बड़े तबके का सब्र टूटता जा रहा है। पिछले कई महीनों से राम मंदिर पर देश में अलग-अलग कई बड़े आयोजन हुए हैं। चूंकि पहली बार राम मंदिर को लेकर शिवसेना चीफ उद्धव ठाकरे भी अयोध्या आए, ऐसे में साफ जाहिर है कि जल्द ही राम मंदिर पर कभी कुछ बड़ा आंदोलन हो सकता है।

Ravi Shankar Prasadहालांकि इस मुद्दे पर शुरू से ही बीजेपी मुखर रही है। ऐसे में कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा है कि बाबरी मस्जिद गुलामी का प्रतीक थी जिसके जरिए हिंदुओं को नीचा दिखाया गया था। रविशंकर ने कार्यक्रम ‘चौपाल’ में कहा, “कल को कोई जामा मस्जिद गिराने की बात करेगा तो मैं मुसलमानों का साथ दूंगा क्योंकि वो उनकी आस्था का विषय है।” उन्होंने दावा किया कि देश के ज्यादातर हिंदू चाहते हैं कि अयोध्या में राम मंदिर बने लेकिन कुछ लोग अड़ंगा डाल रहे हैं।

Rahul Gandhi

राहुल गांधी को लेकर रविशंकर प्रसाद ने कहा कि वो अपनी पार्टी के अध्यक्ष क्षमता से नहीं विरासत से बने हैं। उन्होंने राहुल को अपने पद की मर्यादा का ध्यान रखते हुए भाषा की मर्यादा रखने की सलाह भी दी। रविशंकर ने कहा कि राहुल अभी क्वार्टरफाइनल जीते हैं सेमीफाइनल और फाइनल अभी बाकी है।

राम मंदिर पर लाया गया अध्यादेश तो मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड देगा चुनौती

राम मंदिर मुद्दे पर रविशंकर ने कहा, “मैं अखाड़े का वकील भी रहा हूं और इलाहाबाद हाईकोर्ट ने भी राम मंदिर जन्मस्थान को हिन्दुओं को ही दिया था। उस फैसले के बाद भी मैंने मुसलमानों से कहा था कि राम मंदिर बनने दीजिए, लेकिन उन्होंने नहीं माना।”उन्होंने सुप्रीम कोर्ट से अपील की कि इस पर जल्द से जल्द सुनवाई पूरी की जानी चाहिए। राम मंदिर के लिए काफी सबूत हैं, आर्कियोलोजिकल सर्वे की खुदाई में भी सातवीं शताब्दी का मंदिर निकला था जिसका गर्भगृह ठीक रामलला के नीचे है।

एनडीए में बिखराव के सवाल पर उन्होंने कहा, “हमारी साथी पार्टियां समझदार हैं और उनकी जो भी दिक्कतें हैं वो दूर की जाएंगी।”उपेन्द्र कुशवाहा पर उन्होंने कहा कि उन्हें रहना चाहिए था, लेकिन उनकी खुद की पार्टी ही अब बिखरने की कगार पर है।

Support Newsroompost
Support Newsroompost