बांग्लादेश ने पाकिस्तान को दिया जोरदार झटका !

Avatar Written by: May 6, 2018 8:30 am

नई दिल्ली। आतंकी को पनाह देने वाले पाकिस्तान को एक बार फिर बड़ा झटका लगा है। अब पाकिस्तान को उसके पड़ोसी देश बांग्लादेश ने जोरदार झटका दिया है। पाकिस्तान की उम्मीदों पर पानी फेरते हुए बांग्लादेश ने ज्यादा मुस्लिम आबादी वाले देशों जैसे कि भारत को ऑर्गेनाइजेशन ऑफ इस्लामिक कॉरपोरेशन (ओआईसी) का पर्यवेक्षक बनाने की बात कही है।Bangladesh Prime Minister Sheikh Hasina

बांग्लादेश का यह कदम पाकिस्तान को चिढ़ाने वाला है। ऐसा इसलिए कि ओआईसी के मंच पर पाकिस्तान हमेशा ही भारत की छवि को खराब करता आया है। वह भारत को इसका पर्यवेक्षक बनाने का हमेशा से विरोधी रहा है। ओआईसी एक ऐसा संगठन है जिसके सदस्य केवल वही देश हैं जहां मुस्लिम आबादी की बहुलता है।

PM Narendra Modi And Sheikh Hasina इस दौरान बांग्लादेश के मंत्री अबुल हसन महमूद अली ने संगठन में सुधारों की मांग करते हुए कहा कि भारत जैसे देशों को संगठन के पर्यवेक्षक सीट के लिए नियुक्त किया जा सकता है, जो मुस्लिम बहुल देश नहीं है।

हालांकि पाकिस्तान इस प्रस्ताव का स्वागत नहीं करेगा क्योंकि वह इस फोरम के जरिए भारत को निशाना बनाता रहता है। बता दें कि दुनियाभर की मुस्लिम आबादी का 10 प्रतिशत हिस्सा भारत में रहता है।

OIC

9 करोड़ 20 लाख लोगों की आबादी वाले मिस्र में वैश्विक मुस्लिम आबादी का 5 प्रतिशत हिस्सा रहता है। विश्व में मुस्लिमों की आबादी में इंडोनेशिया और पाकिस्तान के बाद भारत तीसरे नंबर पर आता है।bangladesh minister abul hasan mahmood ali

अली ने कहा कि ऐसे बहुत से देश हैं जो ओआईसी के सदस्य नहीं है लेकिन उनके देश में मुस्लिम नागरिकों की एक बड़ी संख्या मौजूद है। बेशक उन देशों में मुस्लिम अल्पसंख्यक हों लेकिन संख्या के मामले में ये कई आईओसी देशों की कुल आबादी से ज्यादा हैं।

Bangladesh Prime Minister Sheikh Hasina

बांग्लादेश के विदेश मंत्री अली ने आगे कहा कि जरूरत है कि उन गैर-ओआईसी देशों के साथ दूरी को पाटा जाए ताकि बड़ी संख्या में मुस्लिम आबादी संगठन द्वारा किए जाने वाले अच्छे कामों से अछूती न रह सके। यही वजह है कि संगठन के लिए सुधार और पुनर्गठन महत्वपूर्ण है।

बांग्लादेश के इस सुझाव को ओआईसी के महासचिव का समर्थन मिला है। हालांकि यह पहली बार नहीं है जब भारत जैसे देश को इस संगठन में शामिल करने की बात उठी हो मगर हमेशा से पाकिस्तान ने इस प्रस्ताव पर वीटो किया है।