इस शख्स के बारे में जानकर हैरान रह जाओगे जब आपको पता चलेगा कि खुद पीएम मोदी ने इनके…

Written by Newsroom Staff April 10, 2018 7:25 pm

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज महात्मा गांधी के चंपारण सत्याग्रह के शताब्दी मौके पर बिहार पहुंचे थे। इस दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कई परियोजनाओं का शिलान्यास किया।

Source: Media Gallery

इस मौके पर पीएम मोदी ने ‘स्वच्छ भारत अभियान’ की सफलता का ख़ास जिक्र किया। पीएम मोदी ने कहा कि पिछले एक हफ्ते में बिहार में 85000 से ज्यादा टॉयलेट बने हैं जो एक बहुत बड़ी उपलब्धि है। बता दें कि इस समारोह में करीब 20,000 स्वच्छाग्रही शिरकत कर रहे थे।

Source: Media Gallery

जब पीएम मोदी इस अभियान की सफलता का जिक्र कर रहे थे तो उन्होंने पीएम मोदी के इस अभियान में अहम योगदान देने वाले अधिकारी परमेश्वरन अय्यर का भी जिक्र किया।

Source: Media Gallery

उन्होंने कहा ”सरकारी अधिकारी जो काम करते हैं, आमतौर पर वह अनाम रहता है। वह पर्दे के पीछे काम करते हैं, लेकिन कुछ बात ऐसी होती है, जिसे बताने का मन करता है”।

Source: Media Gallery

पीएम ने कहा ”आज भारत सरकार में हमारे सचिव परमेश्वरन जी अय्यर इस काम को देख रहे हैं। वह आईएएस की नौकरी छोड़कर अमेरिका चले गए थे लेकिन हमारी सरकार बनने के बाद हमने आह्वान किया। हमें खुशी है कि वह हमारे आह्वान पर अमेरिका की शानदार जिंदगी को छोड़कर वापस लौट आए। इस दौरान वहां मौजूद अय्यर अपनी सीट से खड़े हो गए।

Source: Media Gallery

मोदी सरकार का स्वच्छ भारत अभियान शायद यह सफलता प्राप्त न कर पाता अगर वह देश छोड़ चुके पूर्व आईएएस अफसर परमेश्वरन अय्यर को वापस न बुलाती। अय्यर 1981 बैच के यूपी कार्डर के आईएएस अफसर हैं। अय्यर ने तकरीबन 9 साल पहले साल 2009 में वोलंटरी रिटायरमेंट ले लिया था।

Source: Media Gallery

वोलंटरी रिटायरमेंट के बाद वह वर्ल्डबैंक के साथ जुड़ गए। अय्यर अपनी सर्विस से पहले वर्ल्डबैंक में वर्ल्ड फ़ूड प्रोग्राम में काम कर चुके है। साल 2006 में उन्होंने ग्रामीण जल स्वच्छता को लेकर खूब काम किया। इस दौरान अय्यर कई देशों में गए जहां उन्होंने स्वच्छता को लेकर कई काम किये।

  • Source: Media Gallery

इस दौरान वह विदेशों में रहते थे और इसको लेकर भारत सरकार ने उन्हें नोटिस तक जारी किया था। अंततः साल 2009 में उन्होंने नौकरी से रिटायरमेंट ले लिया। परमेश्वरन अय्यर वर्ल्डबैंक में साल 2012 से जल आपूर्ति और स्वच्छता के मुद्दों पर काम कर रहे थे।

Source: Media Gallery

इस दौरान उन्होंने अमेरिका, मिस्र लेबनान, हनोई, वियतनाम जैसी जगहों पर काम किया। वियतनाम में उनके द्वारा स्वच्छ जल को लेकर किये गए काम को लेकर उनको खूब सराहना मिली।

Source: Media Gallery

नरेन्द्र मोदी सरकार ने जब 2 अक्टूबर 2014 को स्वच्छ भारत अभियान स्कीम शुरू की लेकिन 2 साल में इस अभियान की धार धीमी होने लगी। स्वच्छ भारत अभियान की कमान मोदी सरकार ने सबसे पहले गुजरात कार्डर के 1980 बैच के आईएएस अफसर विजय लक्ष्मी जोशी को दिया लेकिन उन्होंने अचानक नवम्बर 2015 में वॉलंटरी रिटायरमेंट ले लिया।

Source: Media Gallery

3 फ़रवरी 2016 को मोदी सरकार ने अय्यर को वापस बुलाकर स्वच्छ भारत अभियान में स्वच्छता विशेषज्ञ बना दिया। सरकार ने उन्हें स्वच्छ भारत अभियान में संयुक्त सचिव बनाया।

Source: Media Gallery

अय्यर को भले ही कॉन्ट्रैक्ट बेसिस पर दो साल के लिए पद दिया गया है लेकिन यह अपने आप में पहली बार हुआ है जब सरकार ने एक रिटायर आईएएस अफसर को सरकार के सबसे बड़े मिशन की जिम्मेदारी सौंपी स्वच्छ भारत अभियान में परमेश्वरन अय्यर का प्रदर्शन तमाम रिटायरमेंट ले चुके आईएएस अफसरों के लिए प्रेरणादायक भी है।