मुलायम सिंह को मिली राहत, कारसेवकों पर गोली चलवाने पर एफआईआर की याचिका हुई खारिज

Written by: January 2, 2019 1:18 pm

नई दिल्ली। बुधवार को सुप्रीम कोर्ट ने उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने के लिए दायर की गई याचिका को खारिज कर दिया है।

Mulayam Singh Yadav

इस याचिका में अपील की गई थी कि 1990 में मुलायम सिंह यादव ने राम मंदिर के लिए आंदोलन करने वाले कारसेवकों पर गोली चलाने के आदेश दिए थे।

अयाेध्या गाेलीकांड

बता दें कि 2 नवंबर 1990 को अयाेध्या में जमा हुए कारसेवकाें की भीड़ बेकाबू होने लगी तो यूपी के तत्कालीन मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव ने भीड़ काे तितर बितर करने के लिये गाेली चलाने का आदेश दिया था। इस आदेश के बाद कई कारसेवकाें की जान चली गई थी। मुलायम सिंह का यह आदेश इतिहास के पन्नाें में अयाेध्या गाेलीकांड के नाम से भी जाना जाता है।

अपनी सफाई में मुलायम ने कहा था

हालांकि इस कांड के 23 साल बाद मुलायम सिंह यादव ने कहा था कि, ‘उन्हें अयोध्या में कारसेवकों पर गोली चलाने का आदेश देने का दुख है।’ 23 साल बाद अपनी सफाई में मुलायम ने कहा था कि, ‘उस समय मेरे सामने मंदिर-मस्जिद और देश की एकता का सवाल था। भाजपा वालों ने अयोध्या में 11 लाख की भीड़ कारसेवा के नाम पर लाकर खड़ी कर दी थी।’

आपको बता दें कि उस गोलीकांड के चलते मुलायम सिंह का काफी आलोचना हुई थी और आज भी उस कांड के लिए मुलायम पर सवाल उठते हैं।