देर रात शिवराज से मिलने पहुंचे सिंधिया, आधे घंटे तक बंद कमरे में की चर्चा

कांग्रेस सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने सोमवार देर रात पूर्व मुख्यमंत्री और भाजपा के वरिष्ठ नेता शिवराज सिंह चौहान से मुलाकात की। दोनों के बीच करीब आधा घंटे तक बंद कमरे में चर्चा हुई।

Written by: January 22, 2019 11:40 am

नई दिल्ली। कांग्रेस सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने सोमवार देर रात पूर्व मुख्यमंत्री और भाजपा के वरिष्ठ नेता शिवराज सिंह चौहान से मुलाकात की। दोनों के बीच करीब आधा घंटे तक बंद कमरे में चर्चा हुई। इस मुलाकात से कांग्रेस से लेकर भाजपा के गलियारों में राजनीतिक माहौल गरमा गया।

Jyotiraditya Scindia and Shivraj Singh

सिंधिया सोमवार रात दिल्ली से भोपाल पहुंचे। यहां से वे वरिष्ठ कांग्रेस नेता अशोक जैन भाभा के निधन पर उनके निवास श्रद्धांजलि देने पहुंचे। फिर शिवराज सिंह चौहान के लिंक रोड नंबर एक स्थित निवास पहुंचे। बताया जा रहा है कि भोपाल विमानतल पर उनके उतरने के बाद तक साथ चल रहे समर्थकों को भी उनकी इस मुलाकात के बारे पता नहीं था। सूत्र बताते हैं कि दोनों के बीच प्रदेश की मौजूदा राजनीतिक परिस्थितियों से लेकर सरकार के कामकाज आदि मुद्दों पर बातचीत हुई।

Jyotiraditya Scindia and Shivraj Singh

मुलाकात के बाद सिंधिया ने संवाददाताओं से चर्चा करते हुए कहा, “हम दोनों के बीच कोई मनमुटाव नहीं है, कोई कड़वाहट नहीं है, मैं ऐसा व्यक्ति नहीं हूं, जो चुनाव के समय की कड़वाहट को लेकर पूरी जिंदगी बिताऊं। जैसा कहा जाता है कि रात गई बात गई। इसलिए आगे की सोचना होगा।”

सिंधिया ने आगे कहा, “मध्य प्रदेश का भविष्य संवारना है, उज्जवल करना है, इसलिए हमें सबको साथ लेकर चलना है, खासकर कांग्रेस की जिम्मेदारी बनती है क्योंकि यह सत्ता में है। चुनाव मैदान में कशमकश होती है, मगर चुनाव के बाद सबको मिलकर साथ काम करना चाहिए।”

सिंधिया ने चौहान के साथ हुई बातचीत को अच्छा बताते हुए कहा कि वे हमारे राज्य के मुख्यमंत्री रहे हैं उनसे मिलने आया था, बहुत सारी बातें हुई।

jyotiraditya scindia
सिंधिया से सवाल किया गया कि क्या विपक्ष का कांग्रेस को साथ मिलेगा तो उन्होंने कहा कि, विपक्ष को सदैव अच्छी चीजों का साथ देना चाहिए और कमियों को उजागर करना चाहिए। देश के प्रजातंत्र में विपक्ष की भूमिका भी उतनी ही महत्वपूर्ण होती है जितनी सत्ता पक्ष की होती है। केंद्र में कांग्रेस का महत्वूपर्ण योगदान है, अपेक्षा है कि इसी तरह का राज्य में भाजपा का रहेगा।

पूर्व मुख्यमंत्री चौहान ने भी इस मुलाकात को सौजन्य मुलाकात करार दिया है। इससे पहले चौहान का मुख्यमंत्री कमलनाथ के शपथ ग्रहण समारोह में मंच पर जाना और सिंधिया व कमलनाथ द्वारा चौहान का गर्मजोशी से स्वागत खासा चर्चाओं में रहा था। अब यह मुलाकात सियासी गलियारों में चर्चा में है।