राम मंदिर के लिए कानून बनाए सरकार: भागवत

Avatar Written by: November 25, 2018 6:15 pm

नई दिल्ली। राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (आरएसएस) के सरसंघ चालक मोहन भागवत ने अयोध्या में राम भक्तों और कार सेवकों को संबोधित करते हुए कहा कि श्रीराम मंदिर निर्माण के लिए केंद्र सरकार कानून बनाए। उन्होंने कहा कि मंदिर निर्माण को लेकर संघ पहले सही संकल्पबद्ध है। इस मुद्दे पर संघ देश में जनजागरण अभियान चला रहा है। संत समाज भी इसे लेकर रणनीति बना रहा है। संत समाज जो भी निर्णय करेगा संघ उसका समर्थन करेगा।

पतंजलि योगपीठ द्वारा दो साल से संचालित पतंजलि गुरुकुलम का शनिवार को विधिवत उद्घाटन करते हुए संघ प्रमुख ने कहा कि आज मनुष्य को मनुष्य बनाने वाले ज्ञान की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि गुरुकुल पद्धति के शिक्षा केंद्र पतंजलि गुरुकुलम की स्थापना भारतीय शिक्षा से इस जरूरत को ही पूरा करने के लिए है। उन्होंने कहा कि शिक्षा का उद्देश्य ज्ञान के साथ ही चरित्र निर्माण भी होना चाहिए।समारोह को संबोधित करते हुए योगगुरु बाबा रामदेव ने कहा कि राम राष्ट्र का स्वभाव हैं। हिंदू और मुसलमान सबके पूर्वज हैं। इसलिए राम मंदिर निर्माण का मार्ग तो प्रशस्त होना ही चाहिए। योग गुरु ने कहा कि मंदिर निर्माण में विलंब से लोगों का धैर्य टूट रहा है। ऐसे में सिर्फ दो विकल्प हैं। पहला सरकार कानून बनाए और दूसरा लोग स्वयं मंदिर बनाना शुरू कर दें। यदि लोग स्वयं मंदिर बनाना शुरू करते हैं तो इससे सांप्रदायिक सदभाव बिगड़ने की आशंका है। संसद लोकतंत्र का सबसे बड़ा मंदिर है। इसलिए संसद कानून बनाए। सरकार को मंदिर के लिए भूमि अधिग्रहण कर देश को सौंप देनी चाहिए।जूना अखाड़े के पीठाधीश्वर आचार्य महामंडलेश्वर स्वामी अवधेशानंद गिरी महाराज ने कहा कि योगगुरु ने विश्व में योग और आयुर्वेद को नई पहचान दी है। गुरुकुल में निस्संदेह भविष्य का निर्माण होगा। इससे पूर्व संघ प्रमुख ने पतंजलि गुरुकुलम का लोकार्पण किया।

इस अवसर पर योग गुरु बाबा रामदेव के निकट सहयोगी आचार्य बालकृष्ण, आरएसएस के प्रांत प्रचारक युद्धवीर, विभाग प्रचारक शरद कुमार, जिला प्रचारक पुष्पराज, विधायक प्रदीप बत्रा, शिवालिक नगर पालिकाध्यक्ष राजीव शर्मा और पूर्व मेयर मनोज गर्ग उपस्थित थे।

Support Newsroompost
Support Newsroompost