मनी लॉन्डरिंग: रॉबर्ट वाड्रा को लेकर ईडी ने किया बड़ा खुलासा, बढ़ सकती हैं मुश्किलें

Written by: January 6, 2019 9:16 am

नई दिल्ली। देश की आम जनता को ‘मैंगो पीपल’ कहने वाले और रातो-रात अमीर बनने वाले कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी के जीजा राबर्ट वाड्रा को लेकर मनी लॉन्डरिंग से जुड़ी एक बड़ी खबर सामने आ रही है। आपको बता दें कि मनी लॉन्डरिंग (Money-laundering case) के मामले में पता चला है कि रॉबर्ट वाड्रा लंदन के 12, ब्रायनस्टन स्क्वायर में संपत्ति के मालिक हैं और इसे खरीदने के लिए UEA के रास्ते पैसा पहुंचाया गया।

Robert Vadra

बता दें कि यह दावा दिल्ली की एक अदालत में प्रवर्तन निदेशालय (Enforcement Directorate) द्वारा किया गया है। इसको लेकर ED ने रॉबर्ट वाड्रा के कथित करीबी सहायक मनोज अरोड़ा के खिलाफ बेमियादी गैर जमानती वारंट जारी करने के लिए शनिवार को दिल्ली की एक अदालत याचिका दी।

ED ने अदालत से कहा कि बार-बार समन जारी किए जाने के बावजूद मनोज अरोड़ा पूछताछ के लिए उपस्थित होने में विफल रहा है।

यह अनुरोध प्रवर्तन निदेशालय (ED) के विशेष लोक अभियोजक नितेश राणा ने विशेष न्यायाधीश अरविंद कुमार के समक्ष यह अनुरोध किया। इस मामले में अब 8 जनवरी को सुनवाई होगी।

वकील एआर आदित्य के द्वारा दाखिल की गई याचिका में ईडी की तरफ से दावा किया है कि ‘लंदन के 12, ब्रायनस्टन स्क्वायर में संपत्ति खरीदने के लिए UEA के रास्ते पैसा पहुंचाया गया। इस संपत्ति का कथित तौर पर मालिकाना हक वाड्रा के पास है। ईडी ने कहा कि कालाधन कानून के तहत मामले की जांच की गई है।’

कीमत 19 लाख पाउंड

आपको बता दें कि ईडी ने लंदन के 12, ब्रायनस्टन स्कवायर की जिस संपत्ति पर वाड्रा का नियंत्रण बताया है उसकी कीमत 19 लाख पाउंड आंकी गई है। ED ने कहा कि इस संपत्ति के मरम्मत कार्य कराने के साथ ही इसके लिए धन की भी व्यवस्था की गई।

इस मामले को लेकर ED ने कहा कि ‘संजय भंडारी ने 19 लाख पाउंड में संपत्ति की खरीददारी की और मरम्मत के लिए इस पर 65 हजार 900 पाउंड का अतिरिक्त खर्चा होने के बावजूद 2010 में इसी कीमत पर इसकी बिक्री कर दी गई। ईडी ने अपनी अर्जी में कहा कि परिसर की तलाशी के बाद से मनोज अरोड़ा फरार है।

बता दें कि अगस्ता वेस्टलैंड में कांग्रेस वैसे ही फंसती नजर आ रही है उसके बाद अब राबर्ट वाड्रा के खिलाफ आए इस नये मामले मुश्किलें और बढ़ सकती है। उधर मोदी सरकार भ्रष्टाचार, घोटाले और मनी लॉन्डरिंग पर वैसे ही सखत है, ऐसे में इस मामले में राबर्ट वाड्रा बुरे फंस सकते हैं।