5 राज्यों में हार पर बोले गडकरी, कहा- कोई भी ‘जीत’ की तरह ‘हार’ की जवाबदेही नहीं लेना चाहता

Avatar Written by: December 23, 2018 8:51 am

नई दिल्ली। तीन राज्यों में हाल में भाजपा की हार के बाद केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने शनिवार को कहा कि ‘नेतृत्व’ को ‘हार और विफलताओं’ की भी जिम्मेदारी लेनी चाहिए। केंद्रीय मंत्री ने यह बयान हाल ही में तीन हिंदी भाषी राज्यों में पार्टी की हार के बाद यह टिप्पणी की है।

गडकरी ने कहा, ‘सफलता के कई दावेदार होते हैं लेकिन विफलता में कोई साथ नहीं होता। सफलता का श्रेय लेने के लिए लोगों में होड़ रहती है लेकिन विफलता को कोई स्वीकार नहीं करना चाहता, सब दूसरे की तरफ उंगली दिखाने लगते हैं।’

इसके साथ ही केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने कहा कि नेतृत्व को हार और विफलता की भी जिम्मेदारी स्वीकार करनी चाहिए। सोच समझकर बोलने के लिए मशहूर भाजपा के कद्दावर नेता ने इशारे इशारे में कहा कि कोई भी सफलता की तरह विफलता की जवाबदेही नहीं लेना चाहता है।

सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री ने कहा, ‘सफलता के कई पिता हैं लेकिन विफलता अनाथ है। जब भी सफलता मिलती है तो उसका श्रेय लूटने की होड़ मच जाती है। लेकिन जब विफलता होती है तो हर काई एक दूसरे पर अंगुली उठाना शुरू कर देता है।’

दरअसल केंद्रीय मंत्री पुणे जिला शहरी सहकारिता बैंक संघ लिमिटेड की ओर से आयोजित कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। गडकरी ने कहा कि राजनीति में जब भी हार होती है तब कमेटी बैठती है लेकिन जब जीत मिलती है तो कोई पूछने वाला नहीं होता है क्योंकि जीत के सभी हकदार होते हैं, हार की जिम्मेदारी लेने को कोई तैयार नहीं होता।

Support Newsroompost
Support Newsroompost