सेना को मिली बड़ी सफलता, आतंकी वारदात के एक महीने के भीतर सुंजवान हमले का मास्टरमाइंड ढेर

Written by: March 5, 2018 8:04 pm

नई दिल्ली। जम्मू-कश्मीर में सेना को एक बड़ी सफलता मिली है। आतंकी वारदात के एक महीने के भीतर सुंजवान हमले के मास्टरमाइंड को सेना के जवानों ने ढेर कर दिया है।

खबरों की मानें तो जम्मू के सुंजवान आर्मी कैंप पर हमले के महज एक महीने के भीतर ही सेना ने इस हमले के मास्टरमाइंड को मार गिराया है। इसे सुरक्षाबलों के लिए बड़ी कामयाबी के तौर पर देखा जा रहा है।

पुलवामा के अवंतिपोरा इलाके में हुई एक मुठभेड़ के दौरान सेना की 50 राष्ट्रीय राइफल्स और एसओजी के जॉइंट ऑपरेशन में सुंजवान हमले के मास्टरमाइंड मुफ्ती वकास को ढेर कर दिया गया।

Sunjuwan terror attack mastermind Mufti Waqas killed in Awantipur

इस ऑपरेशन के दौरान एक पुलिसकर्मी के घायल होने की खबर आ रही है, जिसे इलाज के लिए स्थानीय अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

सेना को मिली थी आतंकी मुफ्ती वकास के छुपे होने की खबर

जानकारी के मुताबिक सेना की मिलिट्री इंटेलिजेंस को सोमवार शाम पुलवामा के अवंतिपोरा स्थित हटवार इलाके में मुफ्ती वकास की मौजूदगी के इनपुट मिले थे। ए++ ग्रेड के आतंकी मुफ्ती वकास की मौजूदगी के बाद सेना की 50 राष्ट्रीय राइफल्स, एसओजी और सीआरपीएफ ने संयुक्त रूप से इस इलाके की सख्त घेराबंदी शुरू की। इस घेराबंदी के बीच ही आतंकी द्वारा सुरक्षाबलों पर फायरिंग की गई, जिसके बाद जवाबी कार्रवाई में उसको मार गिराया गया है।

ऑपरेशन के बारे में कश्मीर के आईजी ने दी जानकारी

इस ऑपरेशन के बारे में कश्मीर रेंज के आईजी एसपी पाणी ने बताया कि मारा गया आतंकी मुफ्ती वकास पुलवामा के लेथीपोरा और जम्मू के सुंजवान में सुरक्षाबलों के कैंप पर हुए हमलों का मास्टरमाइंड था। उन्होंने बताया कि ढेर किया आतंकी पाकिस्तानी है और उसके कब्जे से आईईडी बनाने के सामान, घातक हथियार व अन्य चीजें बरामद की गई हैं।

नूर मोहम्मद तांत्रे के बाद बनाया गया था जैश-ए-मोहम्मद का नया कमांडर

मारे गए आतंकी मुफ्ती वकास को जैश-ए-मोहम्मद के पूर्व कमांडर नूर मोहम्मद तांत्रे के मारे जाने के बाद ऑपरेशनल कमांडर बनाया गया था। कमांडर बनाए जाने के बाद वकास ने सुंजवान के जिस हमले की साजिश रची थी, उसमें आतंकियों से मुठभेड़ के दौरान सेना के 6 जवान शहीद हुए थे। 10 फरवरी को हुए इस हमले में 50 घंटे से ज्यादा देर तक चली मुठभेड़ में तीन आतंकियों को मार गिराया गया था, जिनके पास से एके-47 राइफल समेत तमाम सामान बरामद किये गए थे।