पाक पीएम इमरान खान का बड़ा बयान, कहा- अगर जंग शुरू हुई तो मेरे और नरेंद्र मोदी के हाथ में नहीं रहेगा कंट्रोल

इमरान खान ने प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए पुलवामा हमले पर फिर से बातचीत का प्रस्ताव भारत को दिया है। उन्होंने पहले और दूसरे विश्व युद्ध का जिक्र करते हुए कहा कि जंग शुरू होने के बाद कब खत्म होगी, यह तय कर पाना किसी के हाथ में नहीं है।

Written by: February 27, 2019 5:08 pm

नई दिल्ली।  भारतीय वायुसेना की एयर स्ट्राइक के बाद दोनों देशों के बीच सीमा पर चल रहे तनाव के बाद आज पाकिस्तान के पीएम इमरान खान ने बातचीत से मसले हल करने की बात कही है। इमरान खान ने कहा है कि पाकिस्तान नहीं चाहता की दहशतगर्दी के लिए उसकी जमीन का इस्तेमाल हो।

उन्होंने प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए पुलवामा हमले पर फिर से बातचीत का प्रस्ताव भारत को दिया है। उन्होंने पहले और दूसरे विश्व युद्ध का जिक्र करते हुए कहा कि जंग शुरू होने के बाद कब खत्म होगी, यह तय कर पाना किसी के हाथ में नहीं है।

इमरान ने कहा कि मैं हिन्दुस्तान से कहना चाहता हूं कि हम लोग अक्ल और भरोसे से काम लें। उन्होंने कहा कि दुनिया में इससे पहले जो जंग हुई तो है लेकिन इसका पता नहीं चला कि वो खत्म कब होंगी।

इमरान खान ने कहा कि, मैंने कहा था कि अगर भारत कोई एक्शन लेता है तो हमारी मजबूरी होगी जवाब देगा। कल सुबह जो एक्शन लिया गया, मेरी आर्मी चीफ और एयर चीफ से बात हुई। हमने तब एक्शन नहीं लिया क्योंकि हमें पता नहीं था कि कितना नुकसान हुआ है। हमारा मकसद था कि कोई कोलैटरल डैमेज ना हो। आज हमने इसलिए एक्शन लिया हमें दिखाना था कि हम भी जवाब दे सकते हैं।

इमरान खान ने कहा, जंग छिड़ने के बाद यह मेरे या नरेंद्र मोदी के कंट्रोल में नहीं रह जाएगा। इमरान ने कहा, हमने भारत तो न्यौता दिया है कि पुलवामा से जुड़े मसले पर बैठ कर हल निकालें। उन्होंने कहा कि पहला विश्व युद्ध महीनों में खत्म होना था जिसे 6 साल लग गए। दूसरे विश्व युद्ध में हिटलर ने सोचा था कि वह रूस को फतह कर लेगा, लेकिन उसे मुंह की खानी पड़ी। आतंक के खिलाफ लड़ाई में क्या अमेरिका ने सोचा था कि अफगानिस्तान में इतने लंबे वक्त तक फंसे रहेंगे, ऐसे ही वियतनाम युद्ध में भी पता नहीं था कि वह इतने दूर तक जाएगा।


इतना ही नहीं इमरान खान ने आगे कहा ,’मुझे पता है कि पुलवामा में जो कुछ हुआ है, उसके बाद भारत जिस दर्द से गुजर रहा है वह मुझे पता है। पिछले 10 वर्षों से, मैं कई अस्पतालों में गया हूँ, बम विस्फोट पीड़ितों को देखा है। मुझे पता है कि मरने वालों के परिवारों के साथ क्या होता है। इमरान खान ने भारत से यह कहा कि युद्ध हमारी समस्या का समाधान नहीं है। पुलवामा अटैक में आपके यहां जो भी कैजुअलिटी हुई है उसकी जानकारी और सुबूत हमें दें, हम कार्रवाई करेंगे। भारत और हमारे पास जो हथियार है, उसके बाद युद्ध का क्या नतीजा होगा? क्या हम युद्ध के परिणाम को अफोर्ड कर पायेंगे।