पीएम मोदी ने कांग्रेस पार्टी को बताया राम मंदिर के निर्माण में देरी की वजह

Written by Newsroom Staff November 25, 2018 4:25 pm

नई दिल्ली। राम मंदिर के निर्माण के मु्द्दे को लेकर रविवार को पीएम मोदी ने राजस्थान के अलवर में कांग्रेस पार्टी की निशाना बनाया है। पीएम मोदी ने राम मंदिर के निर्माण में देरी के लिए कांग्रेस को जिम्मेदार ठहराया है। अलवर को राजस्थान का सिंह द्वार माना जाता है।

भाजपा के लिए प्रधानमंत्री का अलवर दौरा संजीवनी के समान है। विधानसभा सीटों की संख्या के मामले में अलवर राजस्थान में दूसरा सबसे बड़ा जिला है।

आपको बता दें, प्रधानमंत्री मोदी ने कांग्रेस पर सुप्रीम कोर्ट को डराने का गंभीर आरोप लगाया। मोदी ने कहा कि कांग्रेस की कृपा से राज्यसभा में पहुंचते रहे सुप्रीम कोर्ट के अधिवक्ता पहले अयोध्या मसले को लटकाने के लिए समय बढ़ाने की खुलेआम मांग करते रहे और अब एक नई सोच सामने आ रही है। राज्यसभा में बैठे ऐसे कांग्रेस के वकील महाभियोग के नाम पर सुप्रीम कोर्ट के जजों को डरा रहे हैं, लेकिन मैं यह कहना चाहता हूं कि न्याय मूर्तियों को किसी तरह का दबाव मानने की जरूरत नहीं है।

‘कांग्रेस जातिवाद की राजनीति करती रही’

जातिवाद की राजनीति को लेकर उन्होंने कांग्रेस पर तीखा हमला बोला। उन्होंने कहा कि कांग्रेस जातिवाद की राजनीति करती रही है, लेकिन असलियत यह है कि दलितों, पिछड़ा वर्ग व वंचित शोषित वर्ग को कांग्रेस ने वोट बैंक की तरह इस्तेमाल किया है। उन्होंने कहा कि भाजपा जोड़ने का काम करती है, जबकि कांग्रेस तोड़ने का काम करती है। कांग्रेस की राज्य सरकारों में दलितों पर हमेशा अत्याचार बढ़े हैं। हरियाणा के मिर्चपुर कांड व सोनीपत कांड तथा कर्नाटक के दलित हत्याकांड का जिक्र करते हुए उन्होंने कांग्रेस की पूर्ववर्ती सरकारों को कटघरे में खड़ा किया रैली में दलित व पिछड़ा वर्ग कार्ड खेलते हुए मोदी ने दोनों वर्ग के लोगों को कांग्रेस से दूर रहने का अप्रत्यक्ष संदेश दिया।

राजस्थान में बनेगा इतिहास

मोदी ने राजस्थान में चुनावी हार की भविष्यवाणी करने वालों का नाम लिए बिना कहा कि जो लोग दिल्ली में एसी के बंद कमरों में बैठकर भविष्यवाणी कर रहे हैं, उन्हें मैदान में आकर इस भारी जनसमूह को देख लेना चाहिए। राजस्थान इतिहास बनाने जा रहा है। भैरों सिंह शेखावत दो बार मुख्यमंत्री बने थे। भाजपा की काम करने वाली सोच को फिर जनता का समर्थन मिलेगा।

 

 

Facebook Comments