तकनीक में है भारत की तकदीर, हमें दुनिया को लीड करना है: पीएम मोदी

Avatar Written by: October 24, 2018 7:42 pm

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने बुधवार को कहा कि दुनिया अब हिन्दुस्तान को इंतजार करते हुए नहीं देखना चाहती बल्कि अपेक्षा करती है कि वह दुनिया का नेतृत्व करे और देश को दुनिया की अपेक्षाओं पर खरा उतरना होगा। उन्होंने कहा कि सरकार कितनी भी कोशिश क्यों न करे, लेकिन जब तक जन भागीदारी नहीं होगी तब तक कोई भी पहल सफल नहीं हो सकती।प्रधानमंत्री ने ‘सेल्फ4सोसाइटी’ मंच के जरिये आईटी प्रोफेशनल्स और विनिर्माण क्षेत्र से जुड़े लोगों को टाउनहॉल संबोधित किया। पीएम मोदी ने कहा कि रामायण में इस बात का उल्लेख है कि किस प्रकार एक गिलहरी ने रामसेतु के निर्माण में योगदान दिया था, इसका दूसरा पक्ष यह भी है कि भगवान को भी एक गिलहरी के योगदान की जरूरत पड़ी।

पीएम मोदी ने कहा कि ऐसे में हम कितनी ही पहल करें, कितनी ही योजनाएं बनाएं, बजट दें लेकिन किसी भी पहल की सफलता लोगों की भागीदारी में निहित है। पीएम मोदी ने कहा कि दुनिया भी अब हिन्दुस्तान को इंतजार करते हुए नहीं देखना चाहती, हिन्दुस्तान दुनिया को लीड करे इस अपेक्षा के साथ देख रही है। हमें दुनिया की अपेक्षाओं पर खरा उतरना है।

तकनीक में है भारत की तकदीर

पीएम मोदी ने कि वे सोशल मीडिया से जुड़े व्यक्ति हैं लेकिन जो सूचना परोसी जाती है, वे उसका शिकार नहीं होते हैं। जो सूचना उन्हें चाहिए वे उसे ढूंढकर प्राप्त करते हैं। उन्होंने कहा कि आज 25 से 40 वर्ष के बीच की जो पीढ़ी है, उसमें सहज भाव से काम करने की प्रेरणा है। इसमें सामुहिकता का भाव जुड़ जाए तो ताकत बनकर उभरती है, इसे एक मिशन से जोड़ लें तो परिवर्तन आना शुरू हो जाता है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत की तकदीर तकनीक में है और जो प्रौद्योगिकी युवाओं के पास है, वह भारत की तकदीर से जुड़ा है. उन्होंने ‘मैं नहीं हम’ पोर्टल के संदर्भ में कहा कि इसका अर्थ यह नहीं है कि ‘मैं’ को खत्म कर रहे हैं बल्कि ‘मैं’ का विस्तार है। इसका आशय स्व से समष्टि की ओर बढ़ना है क्योंकि आखिर बड़े परिवार में ही आनंद का अनुभव होता है।

पीएम मोदी ने कहा कि वह देखते हैं कि भारत युवा प्रौद्योगिकी का शानदार ढंग से उपयोग कर रहा है और वह इसका न केवल अपने लिये कर रहे हैं बल्कि दूसरों के लिये भी कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि इस दिशा में प्रयास छोटा हो या बड़ा हो, उसे महत्व दिया जाना चाहिए। उन्होंने यह भी कहा कि आज अधिक लोग टैक्स चुका रहे हैं क्योंकि उन्हें विश्वास है कि उनके पैसे का उपयोग ठीक से और लोगों के कल्याण के लिए किया जा रहा है।