कर्नाटक में कांग्रेस की सहयोगी पार्टी को ही नहीं पसंद राहुल गांधी का ऐसा करना तो फिर….

Written by Newsroom Staff August 6, 2018 4:02 pm

नई दिल्ली। संसद सत्र के दौरान सरकार के खिलाफ लाए गए अविश्वास प्रस्ताव पर अपने संबोधन के बाद राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री की सीट पर जाकर उन्हें गले लगाया और फिर अपनी सीट पर आकर उन्होंने आंख मारी। सोशल मीडिया ससे लेकर राजनीतिक गलियारे तक हर जगह राहुल की इस हरकत की जमकर निंदा की गई। राहुल के इस अंदाज से लगता था कि वह एक तरह से मजाक के मूड में थे जो ना तो देश की जनता को पसंद आया ना ही राजनीतिक पार्टी के नेताओं को। अब राहुल के सहयोगी दलों के लोग भी राहुल की इस हरकत को पसंद नहीं कर रहे हैं।Narendra Modi And Rahul Gandhi

राहुल गांधी का पीएम मोदी से गले मिलना अब भी चर्चा का विषय बना हुआ है। भाजपा और कांग्रेस की बहस के बाद अब इसमें कांग्रेस की सहयोगी जनता दल सेक्युलर ने भी इस मामले पर अपना पक्ष रखा है। कर्नाटक में कांग्रेस के सहयोग से सरकार चला रही इस पार्टी को राहुल गांधी का ये तरीका पसंद नहीं आया। पार्टी की ओर से इस मामले में पार्टी के कर्नाटक अध्यक्ष एच विश्वनाथ ने बयान दिया।H. Vishwanath & Devegoda

एच विश्वनाथ ने मीडिया से बातचीत करते हुए कहा, राहुल गांधी की ये बचकानी हरकत थी। एच विश्वनाथ को एक दिन पहले ही जेडीएस प्रमुख एचडी देवेगौड़ा ने कर्नाटक प्रमुख बनाया है। इससे पहले ये जिम्मेदारी उनके बेटे एचडी कुमारास्वामी के पास थी।

अब वह कांग्रेस के सहयोग से मुख्यमंत्री बन चुके हैं। ऐसे में एच विश्वनाथ का राहुल गांधी के खिलाफ ये बयान विवाद पैदा करने वाला साबित हो सकता है।
H. Vishwanath JDS Karnataka

एच विश्वनाथ विधानसभा चुनाव से ठीक पहले कांग्रेस छोड़कर जेडीएस में शामिल हुए थे। वह कर्नाटक में पिछड़ी जाति कुरुबा से आते हैं। कर्नाटक में वोटों के हिसाब से लिंगायत और वोक्कालिगा समुदाय के बाद कुरुबा तीसरी सबसे ताकतवर जाति है।H. Vishwanath & Devegoda

जेडीएस को वोक्कालिगा समुदाय की पार्टी माना जाता है, ऐसे में देवेगौड़ा ने विश्वनाथ को राज्य का अध्यक्ष बनाकर नया सोशल कार्ड चला है। पूर्व सांसद और तीन बार से विधायक एच विश्वनाथ को कर्नाटक की राजनीति में बड़ा रणनीतिकार माना जाता है। विश्वनाथ को कांग्रेस नेता सिद्दारमैया का भी करीबी माना जाता है।