शनि के कोप से ऐसे आपको बचाएगा शमी का पौधा

381
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

आज आपको एक ऐसे पौधे के बारे में जानकारी मिलेगी जिसको घर में लगाकर आप शनि के कोप से बच सकते हैं। मानव जीवन में जारी शनि के कोप से बचने के लिए शमी का पौधा सहायक हो सकता है।

शमी के फूल, पत्ते, जड़, टहनियां और रस आपको शनि के कोप से बचाए रखेंगें। हिंदू धर्म की मान्यताओं के अनुसार देवता भी शमी पूजन के बाद ही युद्ध के लिए निकलते थे।

शनि को न्याय और कर्म का देवता माना जाता है। शनि देव प्रत्येक व्यक्ति के अच्छे और बुरे कर्मों के हिसाब से फल देता है। प्रत्येक व्यक्ति शनि देवता की प्रकोप से बचने के लिए कई तरह के उपाय करता हैं। लेकिन फिर भी वह शनि देव के प्रकोप से नहीं बच पाता है। लेकिन कुछ उपायों से आप शनि देव के प्रकोप को कम करके अपनी किस्मत के सितारे बुंलद कर सकते हैं।

इसके लिए कोई अधिक प्रयास करने की आवश्यकता नहीं है। मान्यता है कि पीपल और शमी के दो वृक्ष ऐसे है जिनपर शनि का प्रभाव कम होता है।

नियमित रूप से शमी की पूजा करने और उसके नीचे सरसों के तेल का दीपक जलाने से शनि दोष और उसके कुप्रभावों से बचा जा सकता है।

आवश्यक नहीं है कि पेड़ को आप अपने घर में ही हो। शमी वृक्ष की लकड़ी को यज्ञ की वेदी के लिए पवित्र माना जाता है।

शनिवार को करने वाले यज्ञ में शमी की लकड़ी से बनी वेदी का विशेष महत्व है। इतना ही नहीं भगवान गणेश की पूजा में प्रयोग की जाने वाली इस पेड़ की पत्तियों का आयुर्वेद में भी महत्व है।

कहा जाता है कि इस पौधे की पूजा करने से जहां शनि देव को खुश किया जा सकता है वहीं इसे घर में रखने से मां लक्ष्मी का भी वास होता है। इस पौधे की पूजा करने से घर में हमेशा सुख-शांति बनी रहती है। अगर कुंडली में शनि ग्रह सही दशा में न हो तो ज्योतिष शमी की पूजा का ही उपाय बताते हैं।

1.शमी के पौधों को अधिकतर जगह घर में दरवाजे के पास लगाया जाता है। बिहार, झारंखड जैसे राज्यों में तो इसे बहुत पवित्र माना जाता है। कहा जाता है कि इसका सुबह-सुबह दर्शन करना बेहद शुभ होता है।

2. शनिवार को शनिदेव को प्रसन्न करने के लिए शाम को इसके पास सरसों के तेल की दीपक जलाना चाहिए। इसे घर में मुख्य द्वार के बाएं तरफ लगाना चाहिए।

3. घर में शमी का पौधा लगाने से कई प्रकार से वास्तु दोष दूर होते हैं। इसे लगाने से घर में नकारात्मक ऊर्जा नहीं आती है।

4. हवन की लकड़ियों में भी शमी के पौधे की लकड़ी का इस्तेमाल किया जा सकता है।