पीएम मोदी ने बताया जीएसटी का नया मतलब ‘ग्रोइंग स्ट्रॉंगर टुगेदर’

188
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

नई दिल्ली। संसद का मानसून सत्र सोमवार से शुरू हो रहा है। कांग्रेस समेत समूचा विपक्ष इस सत्र में सरकार पर हावी होने के लिए पूरी रणनीति के साथ तैयार है। विपक्ष किसान, कश्मीर, चीन, गोरक्षक और जीएसटी समेत कई मुद्दों पर सरकार को घेरेगा।

संसद सत्र की शुरुआत से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि जीएसटी की वजह से संसद में नई उमंग है। जीएसटी एक साथ काम करने का दूसरा नाम है। जीएसटी का मतलब ‘गोइंग स्ट्रोंगर टुगेदर’ है। एक साथ मजबूती से बढ़ना जीएसटी है। सारे दल मिलकर काम करते हैं तो ये राष्ट्रहित में होता है। मानसून सत्र में किसानों को नमन। इसी सत्र में नया राष्ट्रपति चुना जाएगा। सत्र में राष्ट्रहित में चर्चा की उम्मीद।

मानसून सत्र से पहले सर्वदलीय बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गोरक्षा के नाम पर गुंडागर्दी को लेकर कड़ा रुख अपनाया है। सभी पार्टियों के नेताओं के साथ बैठक में प्रधानमंत्री ने कहा कि गोरक्षा के नाम पर असामाजिक लोग हिंसा कर रहे हैं। इन सभी के खिलाफ राज्य सरकारें कड़ी कार्रवाई करें। प्रधानमंत्री ने कहा कि देश में गोमाता की रक्षा होनी चाहिए और उसके लिए कानून है, लेकिन जो तत्व इसका नाजायज फायदा उठा रहे हैं। उस पर सभी राज्य कार्रवाई करें।

राष्ट्रपति चुनाव पर बोलते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने सभी दलों का धन्यवाद किया। उन्होंने कहा कि इस मुद्दे पर आम सहमति रहती, तो अच्छा रहता। अब तक आपस में कटुता का कोई भाव नहीं आया, इसके लिए सभी लोग बधाई के पात्र हैं।

बता दें कि मॉनसून सत्र के पहले दिन सदन में कोई विधायी काम नहीं होगा। इन दिन दिवंगत हुए दो सदस्यों लोकसभा सदस्य व अभिनेता विनोद खन्ना और राज्यसभा सदस्य व पू्र्व केंद्रीय मंत्री अनिल माधव दवे को श्रद्धांजलि देकर कार्यवाही स्थगित हो जाएगी। इन दोनों नेताओं का पिछले दिनों निधन हो गया था।