जेल में शशिकला के ठाठ बाट का खुलासा करने वाली डीआईजी को मिली ये सजा

3332
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

नई दिल्ली। कर्नाटक की डीआईजी जेल डी.रूपा का सिर्फ इसलिए ट्रांसफर कर दिया गया क्योंकि उन्होंने एआईएडीएमके नेता शशिकला को जेल में मिल रही वीआईपी सुविधाओं का खुलासा किया था। अब उन्हें ट्रैफिक विभाग की जिम्मेदारी सौंपी गई है।

डी रूपा ने पुलिस महानिदेशक (जेल) एच एस सत्यनारायण राव को एक रिपोर्ट सौंपी, जिसमें आरोप लगाए गए हैं कि बेंगलुरु की सेंट्रल जेल में बंद एआईएडीएमके प्रमुख शशिकला को वीवीआईपी ट्रीटमेंट मिल रहा है।

उनके लिए एक विशेष रसोईघर तैयार किया गया है और इस तरह की अटकलें लगायी जा रही हैं कि इस सुविधा को देने के बदले वरिष्ठ जेल अधिकारियों ने दो करोड़ रुपए की रिश्वत ली।

डी. रूपा एक बार फिर सुर्खियों में हैं। इससे पहले रूपा 13 साल पहले उस वक्त भी सुर्खियों में आईं थी जब मध्यप्रदेश की तत्कालीन मुख्यमंत्री उमा भारती को गिरफ्तार करने के लिए वह कर्नाटक के हुबली शहर से भोपाल आ गई थी।
2000 की बैच की आईपीएस ऑफिसर डी रूपा का बचपन कर्नाटक के दावनगिरी शहर में बीता। बीए के दौरान यूनिवर्सिटी टॉपर रही रूपा शार्प शूटर रहीं हैं। रूपा ने एनसीसी में रहते हुए ‘ए’, ‘बी’ और ‘सी’ सर्टिफिकेट पाए।
भरतनाट्यम और हिन्दुस्तानी संगीत में भी रूपा को महारत हासिल है।