जानिए इस जन्माष्टमी कैसे करें भगवान श्रीकृष्ण को प्रसन्न

श्री कृष्ण जन्माष्टमी का दिन भगवान श्रीकृष्ण को समर्पित है इसलिए उनकी कृपा पानी है तो श्री कृष्ण जन्माष्टमी पर इन आसान उपायों को आज़माइए। फिर देखिए कैसे भगवान श्रीकृष्ण की कृपा आप पर बरसती है और किस तरह से आपकी समस्त मनोकामनाएं हकीकत में तब्दील होती हैं।

श्री कृष्ण जन्माष्टमी को कृष्णाष्टमी, गोकुलाष्टमी, कन्हैया अष्टमी, कन्हैया आठें, श्री कृष्ण जयंती और श्रीजी जयंती नामों से भी जाना जाता है। हिन्दू शास्त्रों के अनुसार श्री कृष्ण ने अपना अवतार भाद्र माह की कृष्ण पक्ष की अष्टमी को मध्यरात्रि को अत्याचारी कंस का विनाश करने के लिए मथुरा में लिया था। ये त्योहार भारत के हर क्षेत्र में काफी धूमधाम से मनाया जाता है। भाद्रप्रद मास के कृष्ण पक्ष के अष्ठमी को रोहिणी नक्षत्र में भगवान का कृष्ण का जन्म हुआ था।

krishna 1

ज्योतिषाचार्य पण्डित दयानन्द शास्त्री जी के अनुसार सूर्य के सिंह राशि और चंद्रमा के वृषभ राशि में होने तथा बुराई पर अच्छाई की जीत के रूप में कृष्ण जन्माष्टमी का पर्व और उत्सव मनाया जाता है। इस दिन किए गए उपायों का बहुत अधिक महत्व होता है। कहा जाता है की जन्माष्टमी की रात किया गया उपाय चारों तरफ से धन, संपदा, समृद्धि और सफलता प्रदान करता है।

krishna 6

इस दिन लोग रातभर मंगल गीत गाते हैं और भगवान कृष्ण का जन्मदिन मनाते हैं तथा अपनी मनोकामना की पूर्ति के लिए भगवान कृष्ण को माखन मिश्री तथा तुलसीपत्र का भोग लगाते है।

krishna 5

इन उपायों से होगा लाभ, प्रसन्न होंगें भगवान श्रीकृष्ण

—-इस कृष्ण जन्माष्टमी पर उपवास रखकर साफ कपड़े पहने श्री कृष्ण भगवान का भजन करें ताकि कृष्ण भगवान प्रसन्न हो। कृष्ण जन्माष्टमी के दिन शाम के समय तुलसी के पौधे के नीचे गाय के घी का दिया जलायें और 11 बार ॐ नमो नारायणाय मंत्र का जाप करें. साबुत 108 तुलसी के पत्तों की पीले धागे में माला बनाएं और भगवान कृष्ण को पहनायें. रात्रि में 12:00 बजे भगवान कृष्ण के सामने गाय के घी का दीया जलायें और एक आसन पर बैठे.अब शुद्ध तुलसी की माला या किसी भी माला से ॐ क्लीं कृष्णाय नमः मंत्र का पांच माला जाप करें और सब का आशीर्वाद ले।

krishna 4

— श्री जन्माष्टमी के दिन गरीबों को फल और अनाज दान में देना चाहिए। इससे आपका व्रत सफल होता है। आपको शुभ फल की प्राप्ति होती है।

—- हर कोई जानता है कि भगवान कृष्ण को मक्खन और मिश्री बहुत पसंद है। भोग लगाने से भगवान कृष्ण प्रसन्न हो जाते हैं। मनचाहे फल की प्राप्ति होती है।

—- हारसिंगार, पारिजात या शैफाली के फूल श्रीकृष्ण को बहुत पसंद है। अपनी पूजन में इनका प्रयोग करें।

–  श्री कृष्ण जन्माष्टमी के दिन सुबह स्नान करके राधा-कृष्ण के मंदिर में भगवान कृष्ण को पीले वस्त्र और पीले फूलों की माला अर्पण करने से धन संबंधित परेशानी दूर होती है और लक्ष्मी प्राप्ति के योग बनने लगते हैं।

पीले वस्त्र के साथ मोर पंख लगाना न भूलें।

krishna 2

इस दिन चांदी की बांसुरी को लाकर कान्हा को चढ़ाएं। बाद में पूजन संपन्न होने के बाद इसे अपने पर्स में हिफाजत से रखें।

– भगवान श्रीकृष्ण को पीतांबर धारी भी कहते हैं इसलिए श्री कृष्ण जन्माष्टमी के दिन मंदिर में भगवान श्रीकृष्ण को पीले रंग के कपडे, पीले अनाज, पीले फल, पीली मिठाई चढ़ानी चाहिए।

ज्योतिषाचार्य पण्डित दयानन्द शास्त्री जी ने बताया की ऐसा करने से भगवान श्रीकृष्ण और मां लक्ष्मी दोनों की कृपा प्राप्त होती है और व्यक्ति के जीवन में कभी भी धन और यश की कमी नहीं आती है।

– श्री जन्माष्टमी के दिन भगवान श्रीकृष्ण को सफेद मिठाई, साबुदाने की खीर का भोग लगाएं, खीर में चीनी के बजाय मिश्री का प्रयोग करें और तुलसी दल ज़रूर डालें। इस उपाय को करने से श्रीकृष्ण की कृपा से धन और ऐश्वर्य की प्राप्ति के योग बनने लगते हैं।

– श्री कृष्ण जन्माष्टमी पर दक्षिणावर्ती शंख में जल भरकर जन्माष्टमी के दिन सुबह के वक्त भगवान श्रीकृष्ण का अभिषेक करें। इससे मां लक्ष्मी प्रसन्न होती हैं और भक्तों की समस्त मनोकामनाओं की पूर्ति करती हैं।

krishna

मनचाहा जीवनसाथी पाने के लिए या फिर प्रेम में सफलता पाने के लिए जन्माष्टमी के दिन श्रीकृष्ण के मंदिर में जाकर उन्हें पीले फूलों की माला चढ़ाएं, पीले रंग की मिठाई, मिश्री, शहद और इलायची का भोग लगाएं।

— श्री कृष्ण जन्माष्टमी की रात बारह बजे, जिस समय श्रीकृष्ण का जन्म हुआ था उस समय दूध में केसर मिलाकर भगवान श्रीकृष्ण जी का अभिषेक करना चाहिए। ऐसा करने से श्रीकृष्ण की कृपा से आपके घर में सदा सुख-समृद्धि का वास रहेगा।

– अगर लाख कोशिशों के बाद भी व्यापार और नौकरी में मन मुताबिक सफलता नहीं मिल रही है तो जन्माष्टमी के दिन अपने घर में 7 कन्याओं को बुलाकर उन्हें सफेद मिठाई या फिर खीर खिलाएं साथ ही उन्हें कुछ उपहार भी दें। इस उपाय को अगले 5 शुक्रवार तक लगातार करें। इससे मां लक्ष्मी की कृपा प्राप्त होगी और नौकरी-व्यापार में मनवांछित सफलता मिलेगी।

–श्री कृष्ण जन्माष्टमी के दिन शाम के वक्त तुलसी के सामने घी का दीपक जलाएं और ओम नमो भगवते वासुदेवाय मंत्र का जाप करते हुए तुलसी के पौधे की 11 बार परिक्रमा करें। इस उपाय से गृह क्लेश दूर होता है और घर में सुख शांति का वास होता है।

— जन्माष्टमी के दिन श्रीकृष्ण को पानी वाला नारियल व केला अर्पित करें और अपने मनचाहे प्रेमी या प्रेमिका को मन में रखकर ‘ओम क्लीं कृष्णाय गोपीजन वल्लभाय स्वाहा: इस मंत्र का जाप अवश्य करें।

राधा-कृष्ण की प्रतिमा के सामने रोज़ाना इस मंत्र की पांच माला जपें। इस उपाय से प्रेम विवाह और मनचाहा जीवनसाथी पाने की इच्छा पूरी होने की प्रबल संभावना बनने लगती है।

krishna 7

श्री कृष्ण जन्माष्टमी का दिन भगवान श्रीकृष्ण को समर्पित है इसलिए उनकी कृपा पानी है तो श्री कृष्ण जन्माष्टमी पर इन आसान उपायों को आज़माइए। फिर देखिए कैसे भगवान श्रीकृष्ण की कृपा आप पर बरसती है और किस तरह से आपकी समस्त मनोकामनाएं हकीकत में तब्दील होती हैं।

अपने मन की इच्छा बालकृष्ण को कहें और  बड़े बुजुर्गों के चरण स्पर्श कर, उनका आशीर्वाद लेना ना भूलें। आप सभी को जय जय श्री राधे।। श्री कृष्णा जन्माष्टमी की शुभकामनाएं।।