हृदय नारायण दीक्षित

ज्ञान के इच्छुक जिज्ञासु कहे जाते हैं। हमारे सामने विषय होते हैं। जिज्ञासु विषय जानने की इच्छा रखते हैं। ज्ञान...

विश्व एक है। अस्तित्व अखण्ड है। सारे सामाजिक विभाजन मनुष्य के सचेत या अचेत कर्मों का परिणाम है। सचेत मनुष्य...

वायु प्रदूषण अन्तर्राष्ट्रीय चर्चा है। भारत की राष्ट्रीय राजधानी में वायु प्रदूषण की धुंध है। उत्तर भारत धुंध की चपेट...

पूर्णता सनातन प्यास है। हम सब अपूर्ण हैं। भोजन या पानी की प्यास अपूर्णता का संदेश है। सांसारिक उपलब्धियों की...

आस्था पर बहस आसान नहीं। ईश्वर सर्वोच्च आस्था है। कई पंथों में ईश्वर पर तर्क की अनुमति नहीं है। भारतीय...

भारतीय भौतिकवाद अद्वितीय है। विदेशी विद्वानों ने भारतीय भौतिकवाद की उपेक्षा की है। ऋग्वेद प्रत्यक्ष भौतिकवाद के वैज्ञानिक सूत्रों से...

भारत का राष्ट्रधर्म है संविधान। इसका स्वीकार, आदर और परिपालन हम भारत के लोगों का प्रथम कर्तव्य है। हम भारत...

श्रद्धा भाव है और श्राद्ध कर्म। श्रद्धा मन का प्रसाद है और प्रसाद आंतरिक पुलक। पतंजलि ने श्रद्धा को चित्त...

गतिशील समाज वर्तमान से संतुष्ट नहीं रहते। राजव्यवस्था से भी नहीं। जनतंत्री देशों में चुनाव होते हैं। राजव्यवस्था के कर्ताधर्ता...

‘सत्य, शिव और सुन्दर’ प्राचीन भारतीय प्यास है। यही भारतीय संस्कृति का मूल स्वरूप भी है। हमारे पूर्वजों ने इस...