सचिन कुमार

Congress: खैर, अब इसका फैसला आगामी चुनाव में सूबे की जनता ही करेगी, लेकिन इससे पहले प्रियंका गांधी वाड्रा ने उत्तर प्रदेश प्रदेश विधानसभा चुनाव को लेकर अपनी रणनीति का ऐलान किया है। प्रियंका गांधी ने कहा कि बीजेपी को छोड़कर अगर कोई भी सियासी दल हमारे साथ गठबंधन करना चाहते हैं, तो हम इसके लिए तैयार हैं।

China: यहां तक संसद में भी इस मसले को उठाया गया। उधर, राहुल गांधी ने इस मुद्दे को लेकर केंद्र सरकार की घेराबंदी की। बहरहाल, अब इतना सब कुछ पढ़ने के बाद आप सोच रहे होंगे कि आखिर चलिए ये सारी बातें तो ठीक है, लेकिन अब मिराम तारन को लेकर दोनों ही मुल्कों के बीच क्या स्थिति है।

बीते दिनों कोरोना के बढ़ते मामलों को ध्यान में रखते हुए चुनाव आयोग की तरफ से सभी सियासी दलों को रोड शो और चुनावी रैली करने से मना कर दिया गया था। अब इसी कड़ी में एक बार फिर से चुनाव आयोग ने अपनी सियासी रणनीतियों को धार देने में जुटे सियासी दलों को बड़ा  झटका दे दिया है।

health update of lata mangeshkar :बता दें कि बीत दिनों लता मंगेश्कर की नासाज होती तबियत को ध्यान में रखते हुए उन्हें अस्पताल में भर्ती करवाया गया था। उन्हें कोरोना संक्रमण के साथ-साथ निमोनिया की भी शिकायत थी।

जिसका ममता बनर्जी ने जमकर आलोचना की थी। जिसे लेकर बीते दिनों में केंद्र और बंगाल सरकार के बीच जमकर विवाद देखने को मिला था। जिसके बाद अब इंडिया गेट पर सुभाष चंद्र बोस की प्रतिमा स्थापित करने का फैसला किया गया है, जिस पर अपनी प्रतिक्रिया में ममता बनर्जी ने जहां अपने हर्ष का इजहार किया

भगवंत मान की खिंचाई राजू श्रीवास्तव ने की है। भगवंत पर तंज कसते हुए राजू श्रीवास्तव ने मुख्यमंत्री टुन्न है शीर्षक से वीडियो भी अपलोड किया है। जिसमें उन्होंने दारु पीने के फायदे गिनाए। ये तक बताया है कि उन्होंने कैसे कैसे नशेबाज देखें हैं।

मैंने जांच करवाई थी। रेत का मसला मुझसे कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने पूछा था। उन्होंने मुझसे पूछा था कि आप इसे रोकने के लिए क्या करने वाले हैं। तब मैंने उनसे पूछा था कि अगर मैं इस पर कार्रवाई करूंगा, तो ऊपर  से नीचे तक के सभी लोग कार्रवाई की जद में आएंगे।

उन्होंने कहा कि अगर दोबारा मेरी रैली के पास किसी और की रैली को इजाजत दी गई तो मैं ऐसे हालात पैदा करूंगा कि संभालने मुश्किल हो जाएंगे। इतना ही नहीं, उन्होंने आगे अपने विवादित बयानों के आयाम को आगे बढ़ाते हुए कहा कि, मां की कमस खा के कहता हूं, इनका कोई जत्था नहीं बठेगा। मैं कौमी सिपाही हूं।

UP Election :हालांकि, तब उम्मीद की गई थी कि मायवती की तरफ से प्रियंका गांधी के इस वार पर कोई प्रतिवार किया जाएगा, लेकिन हैरानी की बात रही कि बसपा प्रमुख ने मौन रहना ही उचित समझा।

Punjab : बता दें कि इस सीट से मंत्री के बेटे निर्दलीय चुनाव लड़ रहे हैं और आगामी चुनाव में अपनी बेटे को जीत दिलाने के लिए वो एड़ी चोटी का जोर लगाते हुए नजर आ रहे हैं। वे अपनी हर उस कोशिश को अंजाम तक पहुंचाने की कोशिश में मसरूफ हो चुके हैं, जिससे कि उनके बेटे लिए सत्ता का मार्ग प्रशस्त हो सकें।