ब्लॉग

आयुर्वेद आयु का वेद है। प्राचीन चिकित्सा विज्ञान का उद्देश्य कारोबार या व्यापार नहीं था। मनुष्य को रोगरहित दीर्घजीवी बनाना ही आयुर्विज्ञान का लक्ष्य था। वैद्य समाजसेवी थे।

राजस्‍थान के एक आदिवासी समुदाय ने मांग की है कि ब्रिटेन उनके पूर्वजों के हत्‍याकांड पर माफी मांगे। इन लोगों का दावा है कि अमृतसर के जलियांवाला बाग कांड से करीब साढ़े पांच साल पहले हुए इस हत्‍याकांड में जलियांवाला बाग से ज्‍यादा आदिवासी अंग्रेज सैनिकों के हाथों शहीद हुए थे पर इसे इतिहास में भुला दिया गया।

सत्याग्रह सत्य का आग्रह है। भारत में सत्य के तमाम पहलुओं पर विचार की प्राचीन परम्परा है। वैदिक दर्शन के अनुसार काल से अप्रभावित सत्ता सत्य है। इसके लिए सुंदर शब्द प्रयोग हुआ है त्रिकाल अबाधित। सत्य पर भूत, भविष्य और वर्तमान का प्रभाव नहीं पड़ता। यह परिभाषा दर्शन की है और श्रेय है। दैनिक जीवन में हम सबका सत्य प्रत्यक्ष सत्य है। प्रत्यक्ष का सामान्य अर्थ आंख के सामने होता है। इस शब्द में अक्ष का अर्थ आंख है। साक्षात्कार का अर्थ भी लगभग ऐसा ही है। इसमें आंख के सामने उपस्थित आकार की महत्ता है।

लोकसभा चुनाव 2019 के लिए जारी कांग्रेस के घोषणापत्र 'हम निभाएंगे' में कांग्रेस ने वादा किया है कि अगर उसकी सरकार बनी तो राजद्रोह और पूर्वोत्तर के राज्यों में सुरक्षाबलों को विशेष अधिकार देने वाले सशस्त्र बल विशेष अधिकार कानून (अफस्पा) की धारा को खत्म कर दिया जाएगा। 

डॉ. हेडगेवार का जन्म 1 अप्रैल 1889 को नागपुर के ब्राह्मण परिवार में हुआ था। नागपुर में पढ़ाई के बीच एक दिन स्कूल में वंदेमातरम गाने की वजह से उन्हें निष्कासित कर दिया गया। उसके बाद उनके भाइयों ने उन्हें पढ़ने के लिए यवतमाल और फिर पुणे भेजा। ये बात 1910 की है।

वाराणसी में सियासी तापमान फिर गरमाने जा रहा है। चूंकि प्रधानमंत्री मोदी एक बार फिर इसी सीट से चुनावी मैदान में हैं, तो वहीं विपक्ष ने अभी तक अपने पत्‍ते नहीं खोले हैं। बीजेपी सूत्रों के मुताबिक पीएम मोदी 25 अप्रैल को वाराणसी आएंगे और लंका से दशाश्वमेध घाट तक करीब 10 किलोमीटर लंबा रोड शो करके शक्ति प्रदर्शन करेंगे। अगले दिन वह बाबा विश्वनाथ के दर्शन कर वाराणसी संसदीय सीट से नामांकन करेंगे।

नई दिल्ली। लोकतंत्र के सबसे बड़े महोत्सव चुनाव (लोकसभा इलेक्शन 2019) के शुरू होने से पहले NewsroomPost ने जब ग्राउंड...

नई दिल्ली। लोकतंत्र के सबसे बड़े महोत्सव चुनाव (लोकसभा इलेक्शन 2019) के शुरू होने से पहले NewsroomPost ने जब ग्राउंड...

आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मसूद अजहर को ग्लोबल आतंकी घोषित करने के प्रयास पर एक बार फिर चीन ने अड़ंगा लगा दिया है। सुरक्षा परिषद के चार स्थायी सदस्यों अमेरिका, फ्रांस, ब्रिटेन और रूस ने इसका समर्थन किया था जबकि चीन ने विरोध किया।