यूं ही कोई नहीं बन जाता अजीम प्रेमजी, किया रिटायरमेंट का एलान

देश के सबसे बड़े दानवीर आईटी इंडस्ट्री के दिग्गजों में एक अजीम प्रेमजी ने रिटायरमेंट का एलान किया है। प्रेमजी 30 जुलाई के बाद विप्रो के एग्जिक्युटिव चेयरमैन नहीं रहेंगे। हालांकि, वह कंपनी के बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स में नॉन-एग्जिक्युटिव डायरेक्टर और फाउंडर चेयरमैन के तौर पर बने रहेंगे।

Written by: June 6, 2019 8:31 pm

नई दिल्ली। देश के सबसे बड़े दानवीर आईटी इंडस्ट्री के दिग्गजों में एक अजीम प्रेमजी ने रिटायरमेंट का एलान किया है। प्रेमजी 30 जुलाई के बाद विप्रो के एग्जिक्युटिव चेयरमैन नहीं रहेंगे। हालांकि, वह कंपनी के बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स में नॉन-एग्जिक्युटिव डायरेक्टर और फाउंडर चेयरमैन के तौर पर बने रहेंगे।

Azim Premji

विप्रो की ओर से गुरुवार को जारी एक बयान में कहा गया कि अजीम प्रेमजी के बेटे रिशद प्रेमजी अपने पिता की जगह एग्जिक्युटिव चेयरमैन की जिम्मेदारी संभालेंगे। वह अभी कंपनी के चीफ स्ट्रैटिजी ऑफिसर (सीएसओ) के पद पर हैं। वह कंपनी बोर्ड के मेंबर भी हैं।

विप्रो की ओर से जारी बयान में कहा गया है, ‘देश में टेक्नोलॉजी इंडस्ट्री को खड़ा करने वालों में एक और विप्रो लि. के संस्थापक अजीम प्रेमजी का मौजूदा कार्यकाल 30 जुलाई, 2019 को खत्म हो रहा है। वह पिछले 53 वर्षों से विप्रो का नेतृत्व कर रहे हैं। हालांकि, वह नॉन-एग्जिक्युटिव डायरेक्टर और फाउंडर चेयरमैन के तौर पर बोर्ड में बने रहेंगे।’

अजीम प्रेमजी ने एक बयान में कहा, ‘हमने एक लंबा और संतोषप्रद सफर तय किया। भविष्य में मैं अपनी परोपकारी गतिविधियों में ध्यान केंद्रित करने पर ज्यादा वक्त देना चाहता हूं। मुझे रिशद की नेतृत्व क्षमता पर पूरा भरोसा और विश्वास है कि वह अगले चरण की वृद्धि में विप्रो में बड़ा योगदान देंगे।’

जानकारी के लिए बता दें कि प्रेमजी को पूरी दुनिया एक दानवीर के रूप में जानती है। इसके अलावा उन्हें भारतीय आईटी इंडस्ट्री का सम्राट भी कहा जाता है। टाइम मैगजीन ने उन्हें 2004 और 2011 में 100 सबसे प्रभावी लोगों की सूची में शामिल किया था।