घरेलू वायदा बाजार में सोने-चांदी में जबरदस्त तेजी, कॉमेक्स पर नरम कारोबार

घरेलू वायदा बाजार में इस सप्ताह सोने और चांदी के भाव में जोरदार तेजी रही, जबकि अमेरिका में गैर-कृषि क्षेत्र में नौकरियां बढ़ने के आंकड़े आने के बाद विदेशी बाजार में बुलियन में नरम कारोबार रहा।

Written by: July 7, 2019 11:35 am

नई दिल्ली। घरेलू वायदा बाजार में इस सप्ताह सोने और चांदी के भाव में जोरदार तेजी रही, जबकि अमेरिका में गैर-कृषि क्षेत्र में नौकरियां बढ़ने के आंकड़े आने के बाद विदेशी बाजार में बुलियन में नरम कारोबार रहा। एमसीएक्स पर सोने का भाव सप्ताह के आखिरी सत्र में सर्वाधिक ऊंचे स्तर 35,100 रुपये प्रति 10 ग्राम तक उछला, जबकि सप्ताहिक आधार पर पीली धातु में एक फीसदी की तेजी दर्ज की गई।
gold silver

अमेरिका में सप्ताह के आखिर में आए जॉब डाटा के बाद सोने के भाव में भारी गिरावट आई। वहीं, भारत में महंगी धातुओं पर सीमा शुल्क 10 फीसदी से बढ़ाकर 12.5 फीसदी किए जाने की घोषणा के बाद घरेलू वायदा बाजार एमसीएक्स पर सोने का भाव अब तक के सबसे ऊंचे स्तर पर चला गया।

मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज (एमसीएक्स) पर सोने का अगस्त अनुबंध शुक्रवार को पिछले सत्र के मुकाबले 347 रुपये यानी 1.01 फीसदी की तेजी के साथ 34564 रुपये प्रति 10 ग्राम पर बंद हुआ जबकि कारोबार के दौरान सोने का भाव 35,100 रुपये तब उछला जो देश के सबसे बड़े वायदा बाजार में अब तक रिकॉर्ड स्तर है। पिछले सप्ताह के मुकाबले एमसीएक्स पर सोने के भाव में एक फीसदी की तेजी रही। सप्ताह के दौरान भाव 1,480 रुपये का उतार-चढ़ाव देखने को मिला।

एमसीएक्स पर चांदी का सितंबर वायदा अनुबंध पिछले सत्र से 111 रुपये की तेजी के साथ शुक्रवार को 37,888 रुपये प्रति किलो पर बंद हुआ जबकि कारोबार के दौरान चांदी का भाव 38,940 रुपये प्रति किलो तक उछला।

वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने शुक्रवार को लोकसभा में आम बजट 2019-20 पेश करते हुए कीमती धातुओं पर सीमा शुल्क 10 फीसदी से बढ़ाकर 12.5 फीसदी करने की घोषणा की।
gold_bond_scheme

हालांकि अंतर्राष्ट्रीय अंतर्राष्ट्रीय वायदा बाजार कॉमेक्स पर सोने का अगस्त अनुबंध पिछले सत्र से 19.30 डॉलर यानी 1.36 फीसदी की गिरावट के साथ 1,401.60 डॉलर प्रति औंस पर बंद हुआ जबकि सत्र के दौरान सोने का भाव 1,400 डॉलर प्रति औंस के मनोवज्ञानिक स्तर से फिसल कर 1,388.95 डॉलर प्रति औंस तक आ गया। कॉमेक्स सोने के भाव में पिछले सप्ताह के मुकाबले करीब 11 डॉलर की गिरावट दर्ज की गई।

चांदी का सितंबर वायदा अनुबंध अंतर्राष्ट्रीय बाजार में शुक्रवार को पिछले सत्र में दो फीसदी से ज्यादा की गिरावट के साथ 15.018 डॉलर प्रति औंस पर बंद हुआ। अमेरिका में शुक्रवार को जारी गैर-कृषि क्षेत्र के रोजगार के आंकड़ों के अनुसार, पिछले महीने जून में 2,24,000 लोगों को नई नौकरियां मिलीं।

भारत में महंगी धातुओं पर आयात शुल्क बढ़ने से सोने-चांदी की कीमतों में तेजी रहने की संभावना है। उधर, सर्राफा बाजार कारोबारियों ने इससे खुदरा बाजार में कारोबार पर असर पड़ने की आशंका जताई है। मालाबार गोल्ड एंड डायमंड के चेयरमैन अहम्मेद एम. पी. ने कहा, “सोना पर आयात शुल्क 10 फीसदी से बढ़ाकर 12.5 फीसदी करने के वित्तमंत्री के फैसले से सोने के खुदरा उद्योग (बाजार) पर दोहरी मार पड़ी है।”

उन्होंने कहा कि इससे एक तरफ उद्योग के लागत खर्च में काफी इजाफा होगा जिससे खुदरा दाम में वृद्धि होगी और इससे बिक्री पर असर पड़ेगा तो दूसरी तरफ, इससे देश में सोने का अवैध कारोबार बढ़ेगा जिससे करदाता कारोबारियों को नुकसान होगा।

उन्होंने कहा कि आर्थिक विकास और रोजगार सृजन के साथ-साथ निर्यात में स्वर्ण उद्योग की अहम भूमिका को ध्यान में रखते हुए सरकार को इस कदम पर दोबारा विचार करना चाहिए।