बिजनेस

Petrol-Diesel Price: इस महीने तीन दिन छोड़ दें तो बाकि हर दिन सरकारी तेल कंपनियों ने पेट्रोल और डीजल के दाम में बढ़ोतरी की है। इस महीने 11 दिनों में बढ़ोतरी के बाद पेट्रोल 3.15 रुपये महंगा हुआ है तो वहीं डीजल के दाम भी 3.65 रुपये चढ़ गए हैं।

Share Market: दूसरी ओर, नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) में व्यापक 50 अंकों वाला निफ्टी 17,991.95 स्तर पर बंद होने के बाद 18,097.85 स्तर पर खुला। सुबह निफ्टी 18,066.10 स्तर पर कारोबार कर रहा है।

Petrol-Diesel Price Today: इस महीने की बात करें तो 4, 12 और आज 13 अक्टूबर को छोड़ दें तो बाकी सभी दिनों में तेल की कीमत बढ़ी है। पेट्रोल की कीमत (Petrol Price) 30 पैसे प्रति लीटर जबकि, डीजल की कीमत (Diesel Price) में 35 पैसे प्रति लीटर का इजाफा हुआ है।

PNG-CNG Price Hike: 10 दिन के अंदर दूसरी बार राजधानी-एनसीआर और अन्य जगहों पर सीएनजी और पीएनजी गैस के दाम में बढ़ोतरी हुई है। इनकी कीमतों में करीब 2.50 रुपये प्रति किलो का इजाफा देखने को मिला है। इससे पहले 2 अक्टूबर को इनके दाम बढ़े थे।

India's Retail Inflation Drops: नेशनल स्टैटिकल ऑफिस (एनएसओ) की ओर से मंगलवार को सितंबर माह के लिए खुदरा महंगाई दर के आंकड़े जारी किए हैं। विशेषज्ञों का कहना है कि खुदरा महंगाई दर में कमी की सबसे बड़ी वजह खाद्य पदार्थो के दामों में कमी आना है।

Petrol Diesel Price: पेट्रोल और डीजल की कीमतों में बढ़ोतरी मंगलवार को रुक गई, जिससे पिछले एक महीने से ऑटो ईंधन की कीमतों में अभूतपूर्व वृद्धि का सामना कर रहे उपभोक्ताओं को राहत मिली है। साथ ही खुदरा कीमतें देशभर में उच्च स्तर पर पहुंच गई हैं।

Sensex News: सेंसेक्स और एनएसई निफ्टी ने सोमवार की सुबह के कारोबारी सत्र के दौरान बढ़त हासिल की। इस हिसाब से 30 शेयरों वाला संवेदी सूचकांक सुबह करीब 9.45 बजे 64.41 अंक यानी 0.11 फीसदी की तेजी के साथ 60,123.47 स्तर पर कारोबार कर रहा है।

Petrol-Diesel Price Today: देश के ज्यादातर राज्यों में पेट्रोल (Petrol) के दाम ने 100 के आंकड़े को पार कर चुका है। वहीं डीजल (Diesel) के दाम में भी लगातार बढ़ोतरी हो रही है। आज सोमवार 11 अक्टूबर को पेट्रोल (Petrol) 30 पैसे प्रति लीटर तो वहीं डीजल (Diesel) 35 पैसे प्रति लीटर महंगा हो गया है।

Ratan Tata: अमेरिका की दिग्गज कार कंपनी फोर्ड मोटर्स बीते कई सालों से नुकसान का सामना कर रही है जिससे उसने भारत की दोनों मैन्युफैक्चरिंग यूनिट्स में ताला लगाने का फैसला लिया है। फोर्ड मोटर्स के इस फैसले से साणंद और चेन्नई यूनिट में काम कर रहे 4000 से अधिक लोगों की नौकरी पर भी संकट छा गया है।