देश में सबसे ज्यादा आबादी होने के बाद भी कोरोना कंट्रोल में यूपी सबसे बेहतर, जरा देख लीजिए महाराष्ट्र और दिल्ली की हालत

एक तरफ योगी ने जहां प्रदेश में लॉकडाउन को सफलता पूर्वक लागू करवाने एवं गरीब कल्याणकारी योजनाओं को जमीनी स्तर पर पहुंचाने के लिए वरिष्ठ अधिकारियों की अध्यक्षता 11 कमेटियों का गठन किया।

Avatar Written by: April 16, 2020 4:54 pm

नई दिल्ली। एक तरफ जहां देश भर में वैश्विक महामारी कोरोनावायरस अपना कहर दिखता जा रहा है। वहीं दूसरी ओर उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने इस वायरस पर काफी हद तक नियंत्रित कर रखा है। ऐसे में देश के कोरोना प्रभावित दो प्रमुख राज्यों की जनसंख्या के आधार पर अगर तुलना की जाए तो यह महामारी यूपी में काफी हद तक नियंत्रण में है।

Coronavirus

सबसे पहले बात करते है उत्तर प्रदेश की। 23 करोड़ की आबादी वाला यूपी देश का सबसे बड़ा राज्य है। जहां पर कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या 15 अप्रैल तक 727 है। वहीं कांग्रेस, एनसीपी और शिवसेना शासित महाराष्ट्र को देखें, तो वहां की आबादी 11,26,72,972 है, जबकि यहां कोरोना संक्रमित लोगों की संख्या 2801 है। इसी तरह उपलब्ध आंकड़ों के आधार पर अगर आम आदमी पार्टी शासित दिल्ली को देखा जाए, तो 1.9 करोड़ की जनसंख्या वाले इस राज्य में 14 अप्रैल तक संक्रमित मरीजों की संख्या 1561 है।

अन्य राज्यों की तरह उत्तर प्रदेश में भी कोरोना संक्रमण बढ़ने की वजह तबलीगी जमात के लोग हैं। लेकिन उत्तर प्रदेश में बढ़ी संख्या की पीछे जमात के लोगों की बड़ी जिम्मेदारी है। कुल प्राप्त केसों में इसमें 575 मरीज तबलीगी जमात और उसके कारण संक्रमित हुए लोगों की हैं। यह आंकड़ा 80 फीसदी है।

एक तरफ अन्य राज्य में जहां मरीजों की संख्या में काफी वृद्धि हो रही है। वहीं उत्तर प्रदेश में इसकी रफ्तार काफी कम है। इसके पीछे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के बोल्ड एवं कठोर निर्णय हैं। उन्होंने प्रदेश के कई हिस्सों में अलग-अलग तरह से बैन लगाकर इस बीमारी पर शुरुआत से ही नियंत्रण बनाने का रास्ता तैयार कर लिया था।

Coronavirus

एक तरफ योगी ने जहां प्रदेश में लॉकडाउन को सफलता पूर्वक लागू करवाने एवं गरीब कल्याणकारी योजनाओं को जमीनी स्तर पर पहुंचाने के लिए वरिष्ठ अधिकारियों की अध्यक्षता 11 कमेटियों का गठन किया। वहीं डॉक्टर्स एवं अस्पताल स्टॉफ से दुर्व्यवहार करने वाले तबलीगी जमात से जुड़े कोरोना संक्रमित व्यक्तियों के खिलाफ रासुका के तहत कार्रवाई का आदेश भी दिया।

ब्रिटेन को भी छोड़ा पीछे

ब्रिटेन में जहां कोरोना पॉजिटिव केसों के साथ मरीजों की मौत की संख्या भी बढ़ती जा रही है, वहीं उत्तर प्रदेश ने इसपर काफी हद तक नियंत्रण कर रखा है। आंकड़ों के मुताबिक, उत्तर प्रदेश का क्षेत्रफल 93,933 स्क्वेयर मील है, वहीं ब्रिटेन का क्षेत्रफल 93,628 स्क्वेयर मील है। आबादी की बात करें तो ब्रिटेन की आबादी करीब 6.6 करोड़ है तो उत्तर प्रदेश की आबादी 23 करोड़ यानी ब्रिटेन से करीब 4 गुना अधिक है।

Britain Corona

एक तरफ वह देश है जो पूरी तरह से विकसित है, जहां की चिकित्सा सुविधाओं से लेकर अन्य सभी सुविधाएं एक नजीर के तौर पर पेश की जाती थीं, वहीं दूसरी तरफ एक विकासशील देश भारत का एक राज्य मात्र है। लेकिन कोरोना ने जब अपना प्रकोप दिखाना शुरू किया तो ब्रिटेन का मैनेजमेंट फेल हो गया और यूपी की योगी सरकार का मैनेजमेंट बन गया मिसाल। यह हम नहीं कह रहे, बल्कि आंकड़े कह रहे हैं।

ब्रिटेन में अबतक 382,650 टेस्ट हो चुके हैं, जिसमें से 93,873 केस कोरोना पॉजिटिव निकले हैं। यानी कुल टेस्ट में से करीब 25% लोग पॉजिटिव पाए गए हैं। वहीं देश में अब तक 12,107 लोगों की मौत हो चुकी है। यानी कुल पॉजिटिव पाए गए मरीजों में से करीब 13 प्रतिशत मरीजों की मौत हो चुकी है।

yogi-adityanath

वहीं उत्तर प्रदेश की बात करें तो अब तक 16,720‬ संदिग्धों के कोरोना टेस्ट हो चुके हैं। इनमें से 727 लोगों में कोरोना की पुष्टि हुई है। यानी कुल टेस्ट में से अब तक सिर्फ 4.4 प्रतिशत लोग ही कोरोना पॉजिटिव निकले हैं। वहीं सूबे में अब तक सिर्फ 8 लोगों की मौत हुई है, जो कि कुल मरीजों की संख्या का सिर्फ 1 प्रतिशत। और अगर इन आंकड़ों से तबलीगी जमात के लोगों या उनके संपर्क में आए मरीजों की संख्या कम कर दी जाए तो यह प्रतिशत आधे से भी कम रह जाता है।