कोरोनावायरस

पीएम मोदी ने कहा कि, हम अपने मन में ये संकल्प करें कि हम अकेले नहीं हैं, कोई भी अकेला नहीं है। 130 करोड़ देशवासी, एक ही संकल्प के साथ कृतसंकल्प हैं।

राजस्थान के टोंक में 5 लोगों का कोरोना टेस्ट पॉजिटिव आया है, ये कोरोना मरीज़ों के करीबी हैं(जो तबलीगी ज़मात के कार्यक्रम में शामिल हुए थे)। राजस्थान में मामलों की संख्या अब 138 है इसमें 2 इटली के नागरिक और 14 तबलीगी ज़मात के कार्यक्रम में शामिल होने वाले लोग हैं।

देश के कई राज्यों में मरीजों की संख्या में तेजी के साथ बढ़ोत्तरी देखने को मिल रही है। शुक्रवार को राजस्थान में कोरोना वायरस के पांच नए मामले पाए गए हैं। ये वो लोग हैं जो दिल्ली से आए तबलीगी जमात के लोगों के संपर्क में आए थे।

इस महामारी के संक्रमण को फैलान में तबलीगी जमात बहुत बड़े गुनहगार के तौर पर उभरा है। दिल्ली के निजामुद्दीन में हुए तबलीगी जमात के जलसे में आए लोग कोरोना से संक्रमित होकर देश के अलग अलग हिस्सों में पहुंचे है।

शिशु के पिता वी सिंह ने आईएएनएस से को बताया कि शिशु 26 मार्च की रात चेम्बुर के एक अस्पताल में पैदा हुआ, जहां इलाजरत एक मरीज बाद में कोरोना पॉजिटिव पाया गया।

मरकज से लौटे लोगों के संपर्क में आने वाले 37 लोगों को भी गुरुग्राम में क्वारैंटाइन किया गया है। इस दौरान, अम्बाला और पलवल में विदेशी नागरिक भी मिले हैं, जिन्हें आइसोलेट किया गया है।

इस प्रयोग में अगर वैज्ञानिक सफल हुए तो इस वायरस का टीका व दवा बनाने से आसानी तो होगी ही साथ ही समय भी कम लगेगा। आपको बता दें कि यह टेस्ट कोशिकीय और आणविक जीव विज्ञान केंद्र (सीसीएमबी) की लैब में किया जा रहा है।

निर्मल सिंह को लेकर सिविल सर्जन ने बताया कि निर्मल सिंह हाल ही में विदेश से लौटे थे। 30 मार्च को उनको सांस फूलने और चक्कर आने की शिकायत हुई थी।

मेरठ के लाला जी लाजपत राय स्मारक चिकित्सा महाविद्यालय के प्रचार्य आरसी गुप्ता ने बताया, "मृतक मेरठ के पहले संक्रमित मरीज इकरामुल हसन के ससुर थे। मृतक की उम्र 72 साल थी। वह 29 मार्च को एडमिट हुए थे।"