जीजेयू में 2020 के लिए प्रवेश शुरू, चार नए कोर्स

ओ.पी जिंदल ग्लोबल विश्वविद्यालय (जीजेयू) ने अगले साल 2020 से शुरू होने वाले अपने अकादमिक कोर्सो में प्रवेश के लिए आवेदन प्रक्रिया शुरू करने की घोषणा की है।

Written by: November 21, 2019 1:13 pm

सोनीपत (हरियाणा)। ओ.पी जिंदल ग्लोबल विश्वविद्यालय (जीजेयू) ने अगले साल 2020 से शुरू होने वाले अपने अकादमिक कोर्सो में प्रवेश के लिए आवेदन प्रक्रिया शुरू करने की घोषणा की है। अकादमिक कोर्सो में प्रवेश पाने के इच्छुक विद्यार्थी चार नए पाठ्यक्रम में प्रवेश ले सकेंगे।

GJU

हाल ही में मानव संसाधन विकास मंत्रालय द्वारा इंस्टीट्यूशन ऑफ एमिनेंस के रूप में मान्यता प्राप्त करने वाला जीजेयू विश्वविद्यालय विद्यार्थियों को 14 स्नातक, 6 स्नातकोत्तर और एक डॉक्टरेट कार्यक्रम प्रदान करता है। विश्वविद्यालय द्वारा 2020 के लिए पेश किए गए चार नए कार्यक्रमों में तीन पाठ्यक्रम में बी.ए. (ऑनर्स) को शामिल किया गया है।

GJU

विद्यार्थी सोशल साइंस और पॉलिसी में बी.ए. (ऑनर्स), लीगल स्टडीज में बी.ए. (ऑनर्स), पॉलिटिकल साइंस में बी.ए. (ऑनर्स) और एम.ए. (अर्थशास्त्र) कार्यक्रम में दाखिला ले सकेंगे। छात्र-छात्राएं यहां कानून, व्यापार, अंतर्राष्ट्रीय मामलों, पब्लिक पालिसी, लिबरल आर्ट, पत्रकारिता, वास्तुकला और वित्त में डिग्री कोर्स में से चुनाव कर सकते हैं।

students

प्रतिष्ठित क्वैक्लेरेली साइमंड्स (क्यूएस) विश्व विश्वविद्यालय रैंकिंग 2020 के अनुसार, जिंदल स्टील एंड पावर फाउंडेशन (जेएसपीएल) की एक पहल जीजेयू विश्वभर के सभी विश्वविद्यालयों में शीर्ष 2.67 प्रतिशत के बीच अपना स्थान रखता है। जीजेयू के संस्थापक कुलपति प्रोफेसर राज कुमार ने कहा, “जीजेयू में छात्रों के संपूर्ण विकास की नीव रखी जाती है, पाठ्यक्रम के माध्यम से उनकी सोच को विकसित किया जाता है। विश्वविद्यालय उन्हें सीखने का वातावरण प्रदान करता है।”

उन्होंने कहा, “विद्यार्थियों को प्रमुख संगठनों में अनुसंधान, समर और विंटर इंटर्नशिप के अवसर प्राप्त होते हैं। इसके अलावा विदेश में सेमेस्टर, समुदाय में भागीदारी सेवा परियोजनाएं और राष्ट्रीय व अंतर्राष्ट्रीय शैक्षणिक, सांस्कृतिक, खेल और अन्य कार्यक्रमों में विद्यार्थियों को अवसर मिलते हैं।”

students

विश्वविद्यालय के कुलपति ने कहा, “मुझे विश्वास है कि हमारे आने वाले विद्यार्थी इस महत्वपूर्ण अवसर का पूरा लाभ उठाएंगे।” रजिस्ट्रार और विश्वविद्यालय के प्रोफेसर वाई. एस. आर मूर्ति ने कहा, “जीजेयू 1:10 का विश्वस्तरीय संकाय-छात्र अनुपात बनाए रखता है। विश्वविद्यालय शिक्षाशास्त्र के अपने मूल संस्थागत मूल्यों के लिए गहराई से प्रतिबद्ध है।”