बर्थडे स्पेशल: 85 साल की हुईं आशा भोसले, इस फिल्म से आया जिंदगी में बड़ा बदलाव

Written by: September 8, 2018 9:36 am

मुंबई।  सात दशकों से अपनी आवाज से लोगों को दीवाना बनाने वाली आशा भोसले का आज जन्मदिन है। 85 साल की आशा भोसले ने रोमांटिक से लेकर आइटम सांग्स तक गाये हैं। कुछ गाने लोगों के दिलों में घर कर गए तो कुछ इतिहास बन गए। सिनेमा जगत में 12 हजार से भी ज्यादा गाना गाने वाली आशा भोसले का जन्म 8 सितंबर 1933 को महाराष्ट्र में हुआ। मशहूर परिवार पंडित दीनानाथ मंगेश्कर के परिवार से जुड़ी आशा ताई के सिर से 9 साल की उम्र में ही पिता का साया उठ गया। परिवार की आर्थिक जिम्मेदारी को आशा और उनकी बड़ी बहन लता मंगेश्कर नें फिल्मों में अभिनय करके और गाना गाकर संभाली।

आशा ताई ने अपना पहला गाना 1948 में फिल्म चुनरिया के लिए गाया। 16 साल की उम्र में अपने परिवार वालों के खिलाफ जाकर अपनी उम्र से पंद्रह साल बड़े गणपतराव भोसले से शादी कर ली। हालांकि ये शादी ज्यादा समय तक चल नहीं पाई और आशा ताई को वापस पुणे अपने परिवार के पास आना पड़ा। 1957 में आई फिल्म नया दौर को आशा भोसले की जिंदगी में बड़ा बदलाव कह सकते हैं। इस फिल्म में ओ पी नय्यर के गानों से आशा को बॉलीवुड में काफी नाम मिला।

जब 1956 में पंचम दा और आशा भोसले की पहली मुलाकात हुई थी तब तक आशा भोसले ने बॉलीवुड में अच्छी खासी पहचान बना ली थी। इस मुलाकात के लगभग 10 साल बाद आरडी बर्मन ने आशा भोसले को नासिर हुसैन कि फिल्म तीसरी मंजिल में गाने के लिए संपर्क किया। बस इसके बाद पंचम दा के संगीत और आशा ताई की आवाज का जादू बॉलीवुड पर ऐसा छाया की दोनों के बनाए और गाए गाने लोगों की जुबान पर चढ़ गए।

एक वक्त था जब साइड रोल निभाने वाली लड़कियों पर ही आशा भोसले की आवाज को इस्तेमाल किया जाता था। फिर वो वक्त भी आया जब बड़ी से बड़ी हीरोइन आशा की आवाज के लिए तरसा करती थीं, संगीत की दुनिया में ये माना जाने लगा था कि सिर्फ चुलबुले गानों के लिए ही आशा की आवाज को इस्तेमाल किया जाएगा, लेकिन जब संजिदा और रोमांटिक गानों की बारी आई तो आशा भोसले ने सबको गलत साबित कर दिया।

शास्त्रीय गायकी रही हो या फिर गजल गायकी, लाइट म्यूजिक रहा हो या फिर आइटम सॉन्ग हर अंदाज के साथ उन्होंने पूरा न्याय किया, गुजरे वक्त के संगीतकार एस डी बर्मन, ओपी नय्यर या फिर लक्ष्मीकांत प्यारेलाल रहे हों शंकर जयकिशन रहे हों या फिर बदलते दौर के संगीतकार जतिन- ललित, अन्नु मलिक, एआर रहमान हर दौर के संगीतकार के साथ आशा ने जी तोड़ काम किया।

ये हैं आशा ताई के कुछ फेमस गाने

आर डी बर्मन के साथ शादी

आशा ने 1980 में आर डी बर्मन के साथ शादी की, यह आशा भोसले और पंचम दोनों के लिए दूसरी शादी थी। 8 सितंबर 1933 में जन्मी आशा को फिल्म मेकर बिमल रॉय ने 1953 ने अपनी फिल्म ‘परिणीता’ में गाने का मौका दिया, वहीं राज कपूर ने भी 1954 की फिल्म बूट पॉलिश में आशा को मोहम्मद रफी के साथ गीत गाने मौंका दिया। आशा ने 1000 से ज्यादा फिल्मों में 20 भाषाओं में 12000 गाए।

आशा भोसले को 7 बार फिल्मफेयर अवॉर्ड , 2 बार नेशनल अवॉर्ड, पद्म विभूषण और दादा साहेब फाल्के अवॉर्ड से भी सम्मानित किया गया है। 1997 में आशा भोसले पहली भारतीय सिंगर बनी जिन्हे ग्रैमी अवॉर्ड्स के लिए नॉमिनेट किया गया था।