हार्ड कौर ने कहा कि अभिव्यक्ति की आजादी का सम्मान होना चाहिए

हार्ड कौर ने कहा कि “एक कलाकार के तौर पर हम पर हर वक्त कमर्शियल गाने करने का दबाव नहीं होना चाहिए। एक कलाकार की अभिव्यक्ति की आजादी का सम्मान होना चाहिए।”

Written by: November 25, 2019 6:12 pm

नई दिल्ली। अक्सर विवादों में रहने वाली रैपर हार्ड कौर उर्फ तरन कौर ढिल्लों अपने नए गाने ‘कश्मीर टु खालिस्तान’ के साथ आ रही हैं।

hard core

उनका कहना है कि कलाकारों की अभिव्यक्ति की आजादी का सम्मान होना चाहिए।

hard core

हार्ड कौर ने लंदन से आईएएनएस से कहा, “एक कलाकार के तौर पर हम पर हर वक्त कमर्शियल गाने करने का दबाव नहीं होना चाहिए। एक कलाकार की अभिव्यक्ति की आजादी का सम्मान होना चाहिए।”

hard core
गायिका ने आगे कहा, “यह हिप हॉप है। इसकी शुरुआत इसलिए हुई थी, ताकि समाज में हो रही गलत चीजों को सामने लाया जा सके, जो बेकसूर हैं उनके लिए आवाज उठाया जा सके और अपने शब्दों को व्यक्त करने का यह एकदम सही तरीका है। इसकी वजह से दुनिया में कई बदलाव हुए हैं।”