फिल्म पीएम नरेंद्र मोदी में विवेक ओबेरॉय के अभिनय का नहीं चल पाया जादू

हर तरफ मोदी-मोदी की गूंज है, इस बीच स‍िनेमा के पर्दे पर भी पीएम मोदी की बायोप‍िक र‍िलीज हो गई है। फिल्म को निर्देशक ओमंग कुमार ने बनाया है। ये फिल्म एक ऐसी शख्स‍ियत पर बनी है ज‍िसे हम बीते कई सालों से देख रहे हैं। ज‍िसका नाम है नरेन्द्र मोदी।

Written by: May 24, 2019 4:31 pm

नई दिल्ली। बेहद चर्चित फिल्म पीएम नरेंद्र मोदी ने पिछले कुछ दिनों में खूब सूर्खियां बटोरी है। फिल्म को भारत में रिलीज करने के लिए कई लड़ाई लड़नी पड़ी और अंत में फिल्म लोकसभा चुनाव के नतीजों के बाद ही रिलीज की गई। जी हां, लोकसभा चुनाव में एक बार फिर पीएम मोदी के नेतृत्व में भाजपा ने ऐतिहास‍िक जीत दर्ज की है। हर तरफ मोदी-मोदी की गूंज है, इस बीच स‍िनेमा के पर्दे पर भी पीएम मोदी की बायोप‍िक र‍िलीज हो गई है। फिल्म को निर्देशक ओमंग कुमार ने बनाया है। ये फिल्म एक ऐसी शख्स‍ियत पर बनी है ज‍िसे हम बीते कई सालों से देख रहे हैं। ज‍िसका नाम है नरेन्द्र मोदी। इसल‍िए फिल्म में देखने को कुछ नया नहीं है, जो कि हम सब जानते हैं।

pm biopic 1

कुछ इस तरह है फिल्म की कहानी

फिल्म की कहानी मोदी के चाय बेचने से लेकर देशसेवा करने तक और फिर प्रधानमंत्री बनने तक के सफर को द‍िखाती है। फिल्म की कहानी का अंत साल 2014 में नरेंद्र मोदी के पीएम पद की शपथ लेने पर होता है। फिल्म को देखकर लगता है कि व‍िवेक ओबेरॉय और उनकी टीम ने चंद महीनों का इंतजार किया होता तो वो साल 2019 की झलक भी फिल्म में द‍िखा सकते थे। हालांकि, फिल्म काफी पीएम के पहले के दिनों के संघर्ष को दर्शाती है।

pm biopic

कुछ इस तरह है फिल्म में व‍िवेक ओबेरॉय का अभिनय

व‍िवेक ओबेरॉय ने पीएम नरेंद्र मोदी की बायोप‍िक को अपनी फिल्मों में कमबैक के लिए चुना है। लेकिन उनकी अदाकारी फिल्म में न‍िराश करने वाली है। उन्हें देखकर ये कहीं से नहीं लगता कि वो पीएम नरेंद्र मोदी की भूमिका में हैं। पीएम जैसा आत्मविश्वास विवेक ओबेरॉय की एक्टिंग में कहीं नजर नहीं आता। जो कि इस फिल्म का सबसे कमजोर भाग है। जबकि मोदी के संवाद का तरीका बहुत प्रभावी है जो कि लोगों के दिलों को जीतती है। इसी कला के जरिए मोदी देश की जनता के द‍िल को छूते हैं। लेकिन व‍िवेक ओबेरॉय अपनी फिल्म में मोदी के व्यक्तित्व की इस खासियत को छू भी नहीं पाए हैं। जिस कारण फिल्म मोदी मैजिक को बरकरार नहीं रख पाती है।

pm modi biopic

पीएम मोदी बायोप‍िक बनाने की ज‍िम्मेदारी ओमंग कुमार के कंधों पर थी। जो इसके पहले मैरी कॉम की बायोप‍िक में शानदार हुनर द‍िखा चुके हैं। लेकिन इस बार उन्होंने नरेंद्र मोदी की बायोप‍िक में न‍िराश कर देने वाला काम किया है। फिल्म के दूसरे कलाकारों की अदाकारी पर नजर डालें तो बोमन ईरानी, ब‍िजनेसमैन रतन टाटा के छोटे रोल में भी इम्पैक्टफुल हैं।

pm modi biopic

दर्शन कुमार ने ब‍िकाउ पत्रकार का रोल किया है जो ठीक-ठाक है। वहीदा वहाब ने हीराबेन का रोल किया है जो नॉट बैड टाइप है। एक लाइन में कहे तो किसी किरदार ने यादगार छाप नहीं छोड़ी है। फिल्म एक पावरफुल पर्सनाल‍िटी पर बनाई गई है लेकिन पूरी कहानी में कोई पावर नजर नहीं आता है। अब देखने वाली बात होती है कि फिल्म दर्शकों पर क्या छाप छोड़ने में कामयाब रहती है।