अश्लील टिप्पणी करना पड़ा महंगा, सिडनी वनडे से आउट हुए हार्दिक पंड्या-केएल राहुल

Written by Newsroom Staff January 11, 2019 2:41 pm

नई दिल्ली। हाल ही में टीवी शो ‘कॉफी विद करण’ के दौरान महिलाओं पर टीम इंडिया के ऑलराउंडर हार्दिक पंड्या और बल्लेबाज केएल राहुल ने अश्लील टिप्पणी की थी। जिसके बाद मामले ने तुल पकड़ लिया और इस बयान को लेकर दोनों की जमकर आलोचना कि गई। वहीं विवाद बढ़ता देख हार्दिक पंड्या और बल्लेबाज केएल राहुल को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ पहले वनडे से बाहर कर दिया गया है।

आपको बता दें कि हाल ही में टीवी शो ‘कॉफी विद करण’ में हार्दिक पंड्या अपने साथी खिलाड़ी केएल राहुल के साथ आए थे। शो के दौरान होस्ट करण जोहर ने दोनों खिलाड़ियों से उनकी निजी जिंदगी के बारे में सवाल किए थे। पंड्या ने इस दौरान अपनी निजी जिंदगी से जुड़े हुए कुछ सवालों का जवाब दिया।

हार्दिक पंड्या ने इस दौरान रिलेशनशिप, डेटिंग और महिलाओं से जुड़े सवालों के जवाब देकर फैंस को हैरान कर दिया। पंड्या ने बताया कि उनके परिवार वालों की सोच काफी खुली हुई है और जब उन्होंने पहली बार लड़की के साथ शारीरीक संबंध बनाए तो घर आकर कहा, आज करके आया है।

पंड्या की महिला विरोधी बात को सुनने के बाद सोशल मीडिया ने उन्हें निशाने पर ले लिया था और उनके इस रवैये को बेहद ही शर्मनाक बताया था। वहीं सचिन तेंदुलकर से जुड़े कमेंट को लेकर सोशल मीडिया पर फैंस ने उन्हें जमकर लताड़ लगाई। पंड्या की टिप्पणी को महिला विरोधी और सेक्सिस्ट करार दिया गया और चारों ओर से इनकी आलोचनाएं होने लगीं जिससे COA को बुधवार को उन्हें कारण बताओ नोटिस जारी करने के लिए बाध्य होना पड़ा।

प्रशासकों की समिति (COA) प्रमुख विनोद राय ने भारतीय खिलाड़ी हार्दिक पंड्या और लोकेश राहुल पर टीवी शो ‘कॉफी विद करण’ के दौरान महिलाओं पर अश्लील टिप्पणी के लिए गुरूवार को दो वनडे मैचों के बैन की सिफारिश की थी। प्रशासकों की समिति (COA) की सदस्य डायना इडुल्जी ने भारतीय खिलाड़ियों हार्दिक पंड्या और लोकेश राहुल के खिलाफ शुक्रवार को ‘आगे की कार्रवाई तक निलंबन’ की सिफारिश की है, क्योंकि बीसीसीआई की विधि टीम ने महिलाओं पर इनकी विवादास्पद टिप्पणी को आचार संहिता का उल्लंघन घोषित करने से इनकार कर दिया है।

इडुल्जी ने शुरुआत में इन दोनों को दो मैचों के लिए निलंबित करने का सुझाव दिया था, लेकिन बाद में इस मामले को विधि विभाग के पास भेज दिया जबकि सीओए प्रमुख विनोद राय उनसे सहमत हो गए थे और निलंबन की सिफारिश कर दी थी।

Facebook Comments