देश

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के नवजोत सिद्धू के बयान के बाद से पंजाब कांग्रेस में घमासान बढ़ गया है। पंजाब के एक और मंत्री ने सिद्धू की आलोचना की है। पंजाब के स्वास्थ्य मंत्री ब्रह्मा मोहिंद्रा ने हाईकमान से सिद्धू पर गंभीरता से फ़ैसला करने की मांग की है। दरअसल, कैप्टन अमरिंदर सिंह ने नवजोत सिंह सिद्धू पर निशाना साधते हुए कहा था कि वह उनकी जगह सीएम बनने का सपना संजो रहे हैं और उनकी अनुशासनहीनता को पार्टी बर्दाश्त नहीं करेगी।

शिवराज सिंह चौहान ने संवाददाताओं से कहा, "कांग्रेस मध्य प्रदेश को पश्चिम बंगाल बनाने पर तुली है। पराजय सुनिश्चित है, इससे बौखलाकर अब कांग्रेस हिंसा का सहारा ले रही है। यह दुर्भाग्यपूर्ण घटना हुई है।

बीजेपी से हाल ही में कांग्रेस में आए उदित राज ने सोमवार को भाजपा पर जमकर हमला बोला। एग्जिट पोल के बाद ट्वीट कर कहा कि केरल में बीजेपी आज तक एक भी सीट नहीं जीत पाई क्योंकि वहां शिक्षित लोग रहते हैं। उदित राज ने यह भी कहा कि टीवी सर्वे में भाजपा को जीत मिल रही है ताकि विपक्ष बिखर जाए और ईवीएम का खेल किया जाए।

कुमारस्वामी ने कई सारे ट्वीट्स में कहा, "कृत्रिम तरीके से तैयार की गई मोदी लहर का इस्तेमाल भाजपा 23 मई के परिणाम के बाद किसी कमी को पूरा करने के लिए पहले ही क्षेत्रीय पार्टियों को लुभाने के लिए कर रही है।"

लोकसभा चुनाव 2019 के नतीजों से पहले आए एग्जिट पोल ने विपक्ष की नींद हराम कर दी है, तो बीजेपी खुश है। इसी को लेकर कांग्रेस नेता राशिद अल्वी ने बयान दिया है कि अगर एग्जिट पोल के नतीजे सही साबित होते हैं, तो इसका मतलब ईवीएम में धांधली हुई है। उन्होंने कहा कि सभी एग्जिट पोल एकतरफा नतीजे दिखा रहे हैं, इसलिए हम उस पर भरोसा नहीं कर रहे हैं।

राजभर को लोकसभा चुनाव बाद हटाए जाने के सवाल पर महेंद्र नाथ ने कहा, "यह निर्णय तब लिया गया, जब दो दिन पूर्व मऊ के हलधर थाने में उन्होंने गाली-गलौच की थी।"

लोकसभा चुनाव के एग्जिट पोल के नतीजों के बाद अब मध्य प्रदेश में सियासी हलचल तेज हो गई है। एमपी बीजेपी ने कमलनाथ सरकार के अल्पमत में होने का दावा कर दिया है। बीजेपी ने राज्यपाल को चिट्ठी लिखकर विधानसभा का विशेष सत्र बुलाने की मांग करने की बात कही है। तो वहीं कमलनाथ सरकार ने बीजेपी के आरोपों को सिरे से खारिज करते हुए कहा कि उनकी सरकार बेहद मजबूत है।

केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने पत्रकारों से कहा, "हमने चुनाव आयोग को अपने कार्यकर्ताओं के खिलाफ हिंसा की विस्तृत जानकारी दी। हमने विशेष रूप से पश्चिम बंगाल के उन निर्वाचन क्षेत्रों में फिर से मतदान की हमारी मांग को दोहराया जहां सातवें और पहले के चरणों में हिंसा हुई है।"

लोकसभा चुनावों के नतीजों से पहले आए एग्जिट पोल से पता चल रहा है कि इस बार फिर से मोदी सरकार आने वाली है। इसको लेकर उत्तर प्रदेश मेें सियासी घमासान जारी है। विरोधी दलों में बैठकों का दौर शुरू हो चुका है।