Connect with us

देश

Independence Day: आखिर क्यों भारत के इस राज्य में नहीं मनाया जाता है स्वतंत्रता दिवस?, वजह कुछ ऐसी, जिसे जानकर हैरान हो जाएंगे आप

Independence Day: दरअसल, आजाद भारत का गोवा ऐसा राज्य है जहां स्वतंत्रता दिवस नहीं मनाया जाता है। आइए जानते हैं आखिर क्यों गोवा में 15 अगस्त को स्वतंत्रता दिवस नहीं मनाया जाता है

Published

on

नई दिल्ली। इस साल भारत आजादी की 75 वीं वर्षगांठ सेलीब्रेट कर रहा है। आजादी के इस अमृत महोत्सव में जहां पूरा देश इसके जश्न की तैयारियों में जुटा हुआ है। 75 वीं सालगिरह के अवसर पर देश के प्रधानमंत्री की अपील पर हर घर तिरंगा अभियान चलाया जा रहा है। इसके साथ ही सोशल मीडिया पर भी आजादी का अमृत उत्सव मनाया जा रहा है। लेकिन क्या आप जानते है भारत देश का एक राज्य ऐसा भी है जहां 15 अगस्त को स्वतंत्रता दिवस नहीं मनाया जाता है। दरअसल, आजाद भारत का गोवा ऐसा राज्य है जहां स्वतंत्रता दिवस नहीं मनाया जाता है। आइए जानते हैं आखिर क्यों गोवा में 15 अगस्त को स्वतंत्रता दिवस नहीं मनाया जाता है।

क्यों नहीं मनाते है गोवा में 15 अगस्त को स्वतंत्रता दिवस

15 अगस्त 1947 को भारत अंग्रेजों की हुकूमत की बेड़ियो से पूर्ण रूप से आजाद हो गया था। लेकिन गोवा ऐसा राज्य था जिस पर भारत की आजादी के बाद भी पुर्तगालियों का राज बरकरार था। इसलिए गोवा 15 अगस्त को आजादी का दिन नहीं मनाता है। बता दें कि गोवा पर लगभग पुर्तगालियों ने 400 साल राज किया था और भारत को आजादी मिलने के बाद गोवा 14 साल बाद यानी कि 1961 में गोवा पुर्तगालियों की हुकूमत से स्वतंत्र हुआ था। बता दें कि साल 1510 में अलफांसो-द-अल्बुकर्क के नेतृत्व में पुर्तगालियों ने गोवा पर हमला बोला था। जिसके बाद से ही गोवा पुर्तगालियों के कब्जें में आ गया था।

पुर्तगालियों का गोवा पर राज करना 

इसके अलावा भारत सरकार ने कई बार गोवा को पुर्तगालियों से आजाद कराने का काफी प्रयास भी किया लेकिन पुर्तगालियों ने गोवा छोड़ने से इंकार कर दिया। दरअसल,गोवा को मसाला व्यापार के लिए एक महत्वपूर्ण जगह माना जाता था और मसालों के कारोबार से पुर्तगालियों को बहुत प्रॉफिट भी होता था। इसलिए उन्होंने गोवा पर अपना राज इतने लम्बें वक्त तक बरकरार रखा।

Advertisement
Advertisement
Advertisement