Connect with us

देश

Cryptocurrency: फिर उठी क्रिप्टोकरेंसी पर बैन की मांग, RSS से जुड़े मंच ने केंद्र सरकार से की मांग

Cryptocurrency: 24 दिसंबर को मंच की राष्ट्रीय सभा शुरू हुई थी। इस संगठन के सह-संयोजक अश्विनी महाजन ने कहा, ‘स्वदेशी जागरण मंच की 15वीं राष्ट्रीय सभा में यह प्रस्ताव पारित किया गया जो कि ग्वालियर में संपन्न हुई।’

Published

on

bitcoin_down_

नई दिल्ली। भारत में क्रिप्टोकरेंसी का क्रेज लोगों में काफी तेजी से बढ़ा है। आम से लेकर खास हर कोई इसमें निवेश कर रहा है। हालांकि, बीते महीने खबर आई थी कि सरकार देश में प्राइवेट क्रिप्टो पर बैन लगा देगी लेकिन बाद में सरकार की ओर से इसपर बिल लाकर (Cryptocurrency Bill)नरम रूख देखने को मिला। अब सरकार इसपर पूरी तरह से प्रतिबंध लगाने के पक्ष में तो नहीं है लेकिन अब भी कई हलकों में क्रिप्टोकरेंसी पर पूर्ण रूप से प्रतिबंध की खबरें उठ रही है। बीते दिन रविवार को राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से संबद्ध स्वदेशी जागरण मंच (SJM) ने ‘क्रिप्टो मुद्रा’ पर पूर्ण प्रतिबंध की मांग से जुड़ा प्रस्ताव पारित किया है। इस मंच की ओर से केंद्र की मोदी सरकार की ओर से इन डिजिटल करेंसी की खरीद, बिक्री, निवेश और बाकी तरह के लेन-देन पर पूरी तरह से प्रतिबंध लगाने की मांग की गई है। एक तरह से मंच की ओर से इसके इस्तेमाल को पूरी तरह से खत्म करने के लिए मांग की है। अपनी 15वीं राष्ट्रीय सभा में SJM ने कहा कि भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा डिजिटल मुद्रा से जुड़े मामलों संबंधी कानून को तेजी के साथ तैयार किया जाए और केंद्रीय बैंक डिजिटल मुद्रा (CBDC) को वैध मुद्रा माना जाए।

आपको बता दें, 24 दिसंबर को मंच की राष्ट्रीय सभा शुरू हुई थी। इस संगठन के सह-संयोजक अश्विनी महाजन ने कहा, ‘स्वदेशी जागरण मंच की 15वीं राष्ट्रीय सभा में यह प्रस्ताव पारित किया गया जो कि ग्वालियर में संपन्न हुई।’

पारित प्रस्ताव में ये मांग की गई है कि ‘सरकार को भारत में रहने वाले किसी भी व्यक्ति द्वारा क्रिप्टो मुद्रा की खरीद, बिक्री, निवेश और अन्य किसी भी लेन-देन पर पूर्ण प्रतिबंध लगाना चाहिए।’ इसके अलावा इस लेकर भी मांग की गई है कि जिन लोगों ने इसपर निवेश किया है या फिर जिन लोगों के पास ऐसी मुद्राएं हैं। उन्हें उचित समय में इसे बदलने या बेचने का मौका भी दिया जा सकता है।

Advertisement
Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Advertisement
Advertisement
Advertisement