शोपियां के बाद अब अनंतनाग पहुंचे अजीत डोभाल, लोगों से की मुलाकात

वह इलाके का माहौल भांपने के लिए सड़क पर उतरे। इसी दौरान उनकी मुलाकात बकरीद के लिए भेड़ें बेचने आए चरवाहों से हो गई। डोभाल ने चरवाहे से कुछ देर तक बात की।

Avatar Written by: August 10, 2019 4:20 pm

नई दिल्ली। एनएसए चीफ अजीत डोभाल जम्मू-कश्मीर के दौरे पर हैं और पहले जहां उन्होंने शोपियां में लोगों के साथ मुलाकात कर उनके साथ खाना खाया था। तो अब वो अनंतनाग पहुंचे हैं और वहां के लोगों ने उनसे काफी अच्छे से मुलाकात कर गर्मजोशी से उनका स्वागत किया। वह इलाके का माहौल भांपने के लिए सड़क पर उतरे। इसी दौरान उनकी मुलाकात बकरीद के लिए भेड़ें बेचने आए चरवाहों से हो गई। डोभाल ने चरवाहे से कुछ देर तक बात की।

ajit doval

जम्मू-कश्मीर में शांति कायम रखने के लिए केंद्र सरकार के सारे तंत्र सुपर ऐक्टिव हैं। शांति सुनिश्चित रखने की दिशा में केंद्र की सक्रियता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि एनएसए अजीत डोभाल वहां लगातार आतंकवाद प्रभावित इलाकों में जाकर आम लोगों से मिल रहे हैं और उन्हें बेहतर भविष्य का आश्वासन दे रहे हैं। इसी क्रम में उन्होंने आज अनंतनाग का दौरा किया।

ajit doval 1

अनंतनाग, जम्मू और कश्मीर के बाद जम्मू-कश्मीर का तीसरा सबसे बड़ा शहर है। वहां, डोभाल ने भेड़ बेचने आए व्यक्ति से भेड़ों के दाम पूछे और पूछा कि वह कहां से आए हैं।  इससे दो दिन पहले डोभाल को शोपियां की सड़कों पर आम लोगों से बातचीत की और उनके साथ खाना भी खाया।


दरअसल, जम्मू-कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाले भारतीय संविधान के अनुच्छेद 370 को हटाने के बाद जम्मू-कश्मीर के कुछ इलाकों में उग्र प्रदर्शन की आशंका के मद्देनजर केंद्र सरकार बिल्कुल सधे कदम से आगे बढ़ रही है। 4 अगस्त की रात घोषित निषेधाज्ञा में थोड़ी-थोड़ी ढील दी जा रही है।


हालांकि, आतंकवाद प्रभावित जिलों में अब भी फूंक-फूंक कर कदम उठाए जा रहे हैं। शुक्रवार को कड़ी सुरक्षा के बीच लोगों ने जुमे की नमाज पढ़ी। वहीं, उमर अब्दुल्ला, महबूबा मुफ्ती, सज्जाद लोन जैसे बड़े नेताओं को अब भी नजरबंद रखा गया है।


सरकार कर्फ्यू पूरी तरह हटाने और नेताओं की नजरबंदी खत्म करने से पहले घाटी में सामान्य हालात की गारंटी कर लेना चाहती है। इसी क्रम में जम्मू-कश्मीर की जेलों में बंद 70 आतंकवादियों को आगरा जेल शिफ्ट किया जा चुका है और राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार नए-नए इलाकों का दौरा कर जनता का मूड भांप रहे हैं और केंद्र सरकार में उनका भरोसा बढ़ाने की जी-तोड़ कोशिश कर रहे हैं।

Support Newsroompost
Support Newsroompost