NCP में संकट, राजनीति से संन्यास लेने पर अड़े अजीत पवार, सोनिया ने शरद से की बात

महाराष्ट्र कॉ-ऑपरेटिव बैंक घोटाले में नाम आने के बाद शरद पवार के भतीजे और एनसीपी के कद्दावर नेता अजीत पवार ने राजनीति से संन्यास लेने का मन बना लिया है। अजीत पवार को पार्टी के नेता लगातार समझा रहे हैं लेकिन वो अपने फैसले पर अड़े हुए हैं।

Avatar Written by: September 28, 2019 1:32 pm

मुंबई। महाराष्ट्र कॉ-ऑपरेटिव बैंक घोटाले में नाम आने के बाद शरद पवार के भतीजे और एनसीपी के कद्दावर नेता अजीत पवार ने राजनीति से संन्यास लेने का मन बना लिया है। अजीत पवार को पार्टी के नेता लगातार समझा रहे हैं लेकिन वो अपने फैसले पर अड़े हुए हैं। इसी बीच कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) प्रमुख शरद पवार के प्रति सहानुभूति जताई है।

NCP

सोनिया गांधी ने शनिवार शरद पवार से करीब 15 मिनट फोन पर बात की और अजीत पवार के राजनीति छोड़ने के फैसले के बारे में जानने की कोशिश की। सूत्रों के मुताबिक अजीत पवार अपने राजनीति छोड़ने के फैसले पर पुनर्विचार करने को तैयार नहीं हैं। इससे पहले बताया जा रहा था कि अजीत पवार महाराष्ट्र को-ऑपरेटिव बैंक लिमिटेड में कई करोड़ का घोटाले में अपना और अपने चाचा शरद पवार का नाम आने से आहत थे।

ajit pawar

क्रप्शन के आरोप से आहत

एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने शुक्रवार को कहा था कि विधानसभा की सदस्यता से इस्तीफा देने के पहले अजीत पवार ने अपने बेटे पार्थ पवार से कहा है कि राजनीति आज अपने निम्न स्तर पर है, इसलिए राजनीति छोड़ना बेहतर है। अजीत ने बेटे को भी राजनीति छोड़ने की सलाह देते हुए कहा है कि अब चलो खेती या कोई अन्य व्यवसाय करते हैं।

sharad pawar

उन्होंने कहा कि जब से अजीत पवार को पता चला कि उनके खिलाफ आर्थिक अपराध का मामला दर्ज किया गया है, तब से वह बहुत बेचैन थे। अजीत ने अपने परिवार से भी चर्चा की थी। परिजनों से चर्चा में अजीत पवार ने कहा कि काका (शरद पवार) ने अपने जीवन के 50-52 साल सक्रिय राजनीति के लिए दिए हैं, जिसके लिए उन्हें जनता से सराहना भी मिली है।

क्या बोले एनसीपी प्रमुख

एनसीपी प्रमुख ने कहा कि अजीत ने परिजनों से बात करते हुए बोला है कि मैं (शरद पवार) भले ही उस सहकारी बैंक के सदस्य तक नहीं हूं, लेकिन संबंधित EOC में उनके खिलाफ मामला विचाराधीन है।

sonia sharad

चर्चा है कि अजीत पवार अपने परिवार के सदस्यों के साथ थे। यह पूछे जाने पर कि क्या अजीत पवार ने राजनीति छोड़ने के बारे में संकेत दिया है, एनसीपी प्रमुख ने कहा कि अजीत पवार ने अपने बेटे पार्थ को सलाह दी है। वहीं आज तक से बात करते हुए पार्थ ने अजीत कहा कि उनके पिता बहुत बेचैन थे। उन्होंने विधानसभा की सदस्यता से इस्तीफा दिया है, राजनीति से नहीं।