अजित पवार ने दिया नया बयान, कहा- एनसीपी में हूं और हमेशा रहूंगा, शरद पवार ही हमारे नेता

इसके अलावा उन्होंने अगले ट्वीट में लिखा कि- ‘मैं एनसीपी में हूं और हमेशा एनसीपी में रहूंगा और शरद पवार साहब हमारे नेता हैं। हमारा भाजपा-राकांपा गठबंधन अगले पांच वर्षों के लिए महाराष्ट्र में एक स्थिर सरकार प्रदान करेगा जो राज्य और इसके लोगों के कल्याण के लिए ईमानदारी से काम करेगी।’

Written by: November 24, 2019 6:00 pm

नई दिल्ली। शनिवार का दिन महाराष्ट्र की राजनीति में बिल्कुल अलग रंग लेकर आया। इस दिन इतना कुछ राजनाति में देखने को मिला की सभी स्तब्ध रह गए। शनिवार को सभी को चौंकाते हुए महाराष्ट्र में डिप्टी सीएम के रूप में शपथ ले चुके एनसीपी के अजित पवार ने रविवार को प्रधान मंत्री मोदी को धन्यवाद दिया और उन्हें राज्य में “स्थिर सरकार” का आश्वासन दिया।

ajit pawar

इसके अलावा उन्होंने अगले ट्वीट में लिखा कि- ‘मैं एनसीपी में हूं और हमेशा एनसीपी में रहूंगा और शरद पवार साहब हमारे नेता हैं। हमारा भाजपा-राकांपा गठबंधन अगले पांच वर्षों के लिए महाराष्ट्र में एक स्थिर सरकार प्रदान करेगा जो राज्य और इसके लोगों के कल्याण के लिए ईमानदारी से काम करेगी।’ इसके बाद एक और ट्वीट में उन्होंने लिखा- ‘चिंता करने की बिलकुल जरूरत नहीं है, सब ठीक है। हालांकि थोड़ा धैर्य आवश्यक है। आप सभी के समर्थन के लिए बहुत बहुत धन्यवाद।’

पहले पीएम मोदी का शुक्रिया करते हुए पवार ने ट्वीट कर लिखा था- ‘शुक्रिया माननीय। प्रधानमंत्री जी। हम एक स्थिर सरकार सुनिश्चित करेंगे जो महाराष्ट्र के लोगों के कल्याण के लिए कड़ी मेहनत करेगी।’ ट्वीट्स की एक श्रृंखला में, पवार ने बीजेपी नेताओं – स्मृति ईरानी, ​​जेपी नड्डा, राजनाथ सिंह, अमित शाह, निर्मला सीतारमण और उन सभी को धन्यवाद दिया, जिन्होंने उन्हें उप मुख्यमंत्री बनने पर बधाई दी थी।

शनिवार शाम को, NCP ने अजीत पवार को पार्टी की विधायिका इकाई के प्रमुख पद से हटा दिया था। उनका कहना था कि फडणवीस सरकार को समर्थन देने का उनका निर्णय पार्टी की नीतियों के अनुरूप नहीं था। इससे पहले आज, राकांपा नेता जयंत के नाम को एक पत्र लेकर राजभवन गए और उन्हें विधायक दल के नेता के रूप में अजीत पवार को हटाए जाने के बारे में सूचित किया। इससे पहले आज, शीर्ष अदालत ने महाराष्ट्र सरकार, राज्य के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस, उनके डिप्टी अजीत पवार और केंद्र को नोटिस जारी किया। इसमें सोमवार को सुबह 10 बजे तक विधायकों से समर्थन से संबंधित दस्तावेज और पत्र मांगे गए हैं।