बाबा अमरनाथ बर्फानी के दर्शन के लिए श्रद्धालुओं का पहला जत्था रवाना, सुरक्षा कड़ी

अमरनाथ श्रद्धालुओं का पहला जत्था यहां कड़ी सुरक्षा के बीच रविवार को रवाना हो गया और इस संबंध में आवश्यक प्रबंध कर लिए गए हैं। अधिकारियों ने बताया कि अब तक देश भर से करीब डेढ़ लाख श्रद्धालुओं ने 46 दिन चलने वाली इस यात्रा के लिए पंजीकरण कराया है।

Written by: June 30, 2019 9:02 am

नई दिल्ली। अमरनाथ श्रद्धालुओं का पहला जत्था यहां कड़ी सुरक्षा के बीच रविवार को रवाना हो गया और इस संबंध में आवश्यक प्रबंध कर लिए गए हैं। अधिकारियों ने बताया कि अब तक देश भर से करीब डेढ़ लाख श्रद्धालुओं ने 46 दिन चलने वाली इस यात्रा के लिए पंजीकरण कराया है।Amarnath Yatraजम्मू बेस कैंप से राज्यपाल सत्यपाल मलिक के सलाहकार के के शर्मा ने झंडा दिखाकर पहले जत्थे को रवाना किया। पूरे अमरनाथ यात्रा के चप्पे-चप्पे पर सुरक्षाकर्मी तैनात हैं।Amarnath Yatra first batch pilgrims flagged off यह यात्रा अनंतनाग जिले के 36 किलोमीटर लंबे पारंपरिक पहलगाम मार्ग और गांदेरबल जिले के 14 किलोमीटर लंबे बालटाल मार्ग से होती है। यहां से निकले श्रद्धालु शाम तक श्रीनगर पहुंचेंगे और सोमवार को बाबा बर्फानी के दर्शन कर पाएंगे।


इस तीर्थयात्रा को लेकर साधुओं समेत सैकड़ों श्रद्धालु अत्यंत उत्साहित हैं। जम्मू के मंडल आयुक्त संजीव वर्मा ने बताया कि तीर्थयात्रियों की सुविधा और यात्रा के दौरान उनकी सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए सुरक्षा समेत सभी जरूरी प्रबंध कर लिए गए हैं। Amarnath Yatra first batch pilgrims flagged offयात्रा 15 अगस्त को खत्म होगी।Amarnath Yatra first batch pilgrims flagged off

जम्मू के पुलिस महानिरीक्षक एम. के. सिन्हा ने कहा कि खतरे की आशंका के मद्देनजर यात्रा मार्ग पर लखनपुर (जम्मू-कश्मीर के लिए प्रवेश द्वार) से लेकर आधार शिविरों, आश्रय केंद्रों, ठहराव स्थानों और सामुदायिक किचन स्थानों पर पर्याप्त सुरक्षा प्रबंध किए गए हैं।Amarnath Yatra first batch pilgrims flagged off

उन्होंने कहा कि यात्रा को अवरोधित करने की आतंकवादियों की किसी योजना को लेकर खुफिया जानकारी नहीं है, लेकिन राज्य के वर्तमान सुरक्षा परिदृश्य को देखते हुए किसी भी आतंकी प्रयास को विफल करने के लिए सुरक्षा इंतजाम किए गए हैं।