अमित शाह का कांग्रेस पर वार- कहा वोट के लिए एनआरसी पर उठा रही है सवाल

Avatar Written by: July 31, 2018 4:13 pm

नई दिल्ली। भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (एनआरसी) के मुद्दे पर विपक्ष दलों पर जमकर निशाना साधा। शाह ने कहा कि सदन की गरिमा के लिए यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि मैं सदन का सदस्य होते हुए भी वहां अपनी बात नहीं रख पाया। मुझे सदन में बोलने नहीं दिया गया इसलिए मैंने यह प्रेस कांफ्रेंस की।

अमित शाह ने कहा कि एनआरसी में किसी भारतीय का नाम नहीं कटेगा। उन्होंने कहा कि 40 लाख का आंकड़ा अंतिम नहीं है। भारतीय नागरिक होने का सबूत नहीं पेश करने के बाद ही एनआरसी से नाम कटा है। उन्होंने कहा कि विपक्ष भाजपा की छवि खराब करने की कोशिश कर रही है। कांग्रेस वोट के लिए सवाल उठा रही है, जबिक एनआरसी की शुरुआत ही कांग्रेस ने की।

Amit Shah

राहुल गांधी अपना रुख साफ करें

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर टिप्पणी करते हुए अमित शाह ने कहा कि राहुल एनआरसी के मुद्दे पर अपना रुख स्पष्ट करें। साथ ही उन्होंने तृणमूल कांग्रेस समेत दूसरे दलों से भी एनआरसी पर अपना रुख स्पष्ट करने की मांग की।

Amit Shah

अमित शाह का ममता पर तंज

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर शाह ने कहा कि उन्हें अपना सामान्य ज्ञान थोड़ा ठीक करना चाहिए. शाह ने कहा कि ममता बनर्जी चुनाव जीतने के लिए भ्रांतियां फैला रही हैं।

शाह ने कहा कि विपक्षी दल विदेशियों के मानवाधिकारों के उल्लंघन के बारे में बात कर रहे हैं। उन्होंने पूछा, “क्या वे देश के नागरिकों के मानवाधिकारों की परवाह नहीं करते हैं? क्या यह असम के लोगों के मानवाधिकारों का उल्लंघन नहीं है, क्या यह राष्ट्रीय सुरक्षा का उल्लंघन नहीं है?”

उन्होंने कहा, “सभी नागरिकों के मानवाधिकारों की रक्षा के लिए एनआरसी लाया गया है।”

वोट बैंक की राजनीति करने के लिए विपक्षी दलों पर हमला बोलते हुए शाह ने कहा, “वोट बैंक की राजनीति को राष्ट्रीय हित से ऊपर नहीं रखा जाना चाहिए। हमने कभी भी वोट बैंक की राजनीति नहीं की। हमने हमेशा अवैध आव्रजकों को निकालने की मांग की है।”

उन्होंने विपक्षी दलों पर भाजपा को देश विभाजित करने की कोशिश करने वाली पार्टी के रूप में चित्रित करने की कोशिश करने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा, “लेकिन, मैं उन्हें याद दिलाना चाहता हूं कि असम समझौते पर राजीव गांधी ने हस्ताक्षर किए थे।”

तृणमूल प्रमुख और मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की आलोचना करते हुए भाजपा प्रमुख ने कहा, “यह एक संवेदनशील मुद्दा है। ममता बनर्जी इसे वोट बैंक की राजनीति के लिए उठा रही हैं।”