“370 के चलते मजबूर हो गए थे राजीव गांधी”, अमित शाह के खुलासे से सन्न रह गए कांग्रेसी

अमित शाह ने कांग्रेस को पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की याद दिलाई और बताया कि किस तरह से 370 के चलते राजीव गांधी का अपना सपना कश्मीर में लागू नहीं हो सका।

Avatar Written by: August 5, 2019 6:39 pm

नई दिल्ली। गृहमंत्री अमित शाह ने राज्यसभा में कश्मीर मुद्दे पर जवाब देते हुए कांग्रेस को उसके ही शासनकाल का हवाला देकर लाजवाब कर दिया। अमित शाह ने कांग्रेस को पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की याद दिलाई और बताया कि किस तरह से 370 के चलते राजीव गांधी का अपना सपना कश्मीर में लागू नहीं हो सका।

अमित शाह ने कहा कि 370 के चलते ही कश्मीर में जमीनों के दाम नहीं बढ़ पा रहे हैं और वहां के लोग गरीबी से जूझ रहे हैं। अमित शाह ने संविधान के 73 वें और 74 में संशोधन का भी जिक्र किया। इन संशोधन के जरिए देश में स्थानीय निकाय की स्थापना की गई थी। देश में नगरपालिका और पंचायती राज लागू किया गया था। यह राजीव गांधी का सपना था जिसे साल 1993 में नरसिम्हा राव की अगुवाई वाली कांग्रेस की सरकार ने लागू किया था मगर 370 के चलते इसे कश्मीर में लागू नहीं किया जा सका।

अमित शाह ने इसी बात का जिक्र करते हुए कांग्रेस को कटघरे में खड़ा कर दिया। उन्होंने गुलाम नबी आजाद का नाम लेते हुए कहा कि वे खुद जम्मू कश्मीर के मुख्यमंत्री रहे हैं पर वे भी इस संशोधन को कश्मीर में लागू नहीं कर सके। अमित शाह ने जम्मू कश्मीर में फैले भ्रष्टाचार का मुद्दा भी उठाया। उन्होंने कहा कि 370 के चलते कश्मीर को जमकर लूटा गया। जो लोग आज इसका विरोध कर रहे हैं वह दरअसल 370 का विरोध नहीं कर रहे हैं बल्कि कश्मीर में उनके कामकाज पर जो जांच बैठी हुई है, वही उनकी घबराहट का मुख्य कारण है।

अमित शाह ने सीमेंट उद्योग का जिक्र करते हुए कहा कि कश्मीर के हर उद्योग पर तीन परिवारों ने कब्जा कर रखा है। किसी भी आम कश्मीरी हो उसका लाभ उठाने नहीं दिया जाता है। अमित शाह ने शिक्षा के मूल अधिकार का मुद्दा भी उठाया। उन्होंने कहा कि यह अधिकार पूरे देश में साल 2009 में लागू हो गया। मगर 370 के चलते ही इसे कश्मीर में लागू नहीं किया जा सका। अब लोकसभा में पारित होने के साथ ही कश्मीर के हर बच्चे को यह लाभ मिल सकेगा।