साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के बचाव में खुलकर सामने आए अमित शाह, देखिए क्या कहा

अमित शाह ने एक प्रेस कांफ्रेंस करके पश्चिम बंगाल के वोटरों से कहा कि “हमारी रैली को बंगाल में अनुमति न देने वाली ममता दीदी की रैलियों को आज जनता अनुमति नहीं दे रही।

Avatar Written by: April 22, 2019 10:27 am

नई दिल्ली। सात चरणों में हो रहे लोकसभा चुनाव के दो चरण पूरे हो चुके हैं, तीसरा चरण 23 अप्रैल को है, इसे देखते हुए भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने एक प्रेस कांफ्रेंस करके पश्चिम बंगाल के वोटरों से कहा कि “हमारी रैली को बंगाल में अनुमति न देने वाली ममता दीदी की रैलियों को आज जनता अनुमति नहीं दे रही। उनकी रैलियों में भीड़ नहीं उमड़ रही है।”

बंगाल में तुष्टिकरण की राजनीति

अमित शाह ने ममता बनर्जी पर आरोप लगाते हुए कहा कि, “नारदा, शारदा और सिंडिकेट राज ने बंगाल के अंदर भष्टाचार का माहौल खड़ा किया है। जिससे बंगाल की जनता त्रस्त है। बंगाल में वोटबैंक की तुष्टिकरण की राजनीति ने यहां की संस्कृति को नष्ट करने का काम किया है। पुलिस और ब्यूरोक्रेसी ने अपना रोल छोड़कर राजनेताओं का रोल ले लिया है। राजनेता मौन है, बाबू शाही बंगाल के लोकतंत्र को हड़प कर गई।”

बंगाल की जनता से अपील

लोकतंत्र की दुहाई देने वाली ममता दीदी के इरादों पर सवाल उठाते हुए अमित शाह ने कहा, “सभी लोकतांत्रिक हितों को बंगाल में दफन करने वाली ममता दीदी आज लोकतंत्र की बात कर रही है। बंगाल में दो चरण के चुनाव के बाद ममता बनर्जी की बौखलाहट स्पष्ट दिख रही है। उन्हें अपनी हार दिख रही है और उसी हताशा से वो अब विपक्ष और चुनाव आयोग पर सवाल उठा रही है। बंगाल के अंदर लोकतंत्र स्वतंत्र नहीं है। लोगों के मत का गला घोटने का काम किया जा रहा है। मैं बंगाल की जनता से अपील करने आया हूं कि जरा भी मन में भय रखे बगैर बेखौफ होकर मतदान करिए।”

साध्वी प्रज्ञा ठाकुर का बचाव

प्रज्ञा ठाकुर को टिकट देने को लेकर विरोधियों ने सवाल उठाया तो अमित शाह ने उनका खुलकर बचाव करते हुए कहा कि, “जहां तक साध्वी प्रज्ञा का सवाल है तो कहना चाहूंगा कि हिंदू टेरर के नाम से एक फर्जी केस बनाना गया था, दुनिया में देश की संस्कृति को बदनाम किया गया, कोर्ट में केस चला तो इसे फर्जी पाया गया।” उन्होंने कहा, “सवाल ये है कि स्वामी असीमानंद जी और बाकी लोगों को आरोपी बनाकर फर्जी केस बनाया तो, समझौता एक्सप्रेस में ब्लास्ट करने वाले लोग कहां है, जो लोग पहले पकड़े गए थे, उन्हें क्यों छोड़ा गया।”

Support Newsroompost
Support Newsroompost