वेंकैया नायडू ने मार्शल्स की नई वर्दी पर पुनर्विचार के आदेश दिए, पूर्व सेना चीफ ने जताई थी आपत्ति

मंगलवार को राज्यसभा के सभापति वेंकैया नायडू ने सदन में कहा कि राज्यसभा सचिवालय ने मार्शलों के लिए नया ड्रेस कोड तय किया था, लेकिन राजनीतिक नेताओं तथा कुछ प्रबुद्ध नागरिकों की ओर से इस संबंध में कुछ सुझाव एवं टिप्पणियां मिली हैं।

Written by: November 19, 2019 1:01 pm

नई दिल्ली। राज्यसभा में मार्शल की नई वर्दी पर विवाद खड़ा हो गया है। राज्यसभा की कार्यवाही मंगलवार को शुरू होते ही विपक्षी दलों ने वर्दी पर सवाल उठा दिए। उनका कहना है कि मार्शल की वर्दी सेना की तरह दिख रही है। मंगलवार को राज्यसभा के सभापति वेंकैया नायडू ने सदन में कहा कि राज्यसभा सचिवालय ने मार्शलों के लिए नया ड्रेस कोड तय किया था, लेकिन राजनीतिक नेताओं तथा कुछ प्रबुद्ध नागरिकों की ओर से इस संबंध में कुछ सुझाव एवं टिप्पणियां मिली हैं। नायडू ने कहा कि मैंने सचिवालय से इसकी समीक्षा करने के लिए कहने का फैसला किया है। हालांकि विपक्ष के भारी हंगामे के चलते राज्यसभा की कार्यवाही स्थगित करनी पड़ी।

Rajya Sabha marshals

वहीं पूर्व आर्मी चीफ समेत कई पूर्व सैन्य अफसरों ने मार्शल की नई ड्रेस पर आपत्ति जताई है। राज्यसभा में मार्शल की नई ड्रेस पर पूर्व आर्मी चीफ वेद प्रकाश मलिक ने आपत्ति जताई थी। मलिक ने ट्विटर पर लिखा था कि गैर सैन्यकर्मियों द्वारा सैन्य वर्दी पहनना और उसकी नकल करना गैरकानूनी है और सुरक्षा के लिए खतरा है। मैं उम्मीद करता हूं कि इस पर जल्द कार्रवाई होगी। केंद्रीय मंत्री वीके सिंह और भारतीय सेना के पूर्व प्रमुख ने भी कहा कि जो भी किया गया वह गैरकानूनी है

अलग अंदाज में नजर आए मार्शल

RajyaSabha Marshals

बता दें कि सोमवार से शुरू शीतकालीन सत्र में कार्रवाही शुरू होने से ठीक पहले जैसे ही राज्यसभा अध्यक्ष वेंकैया नायडू सदन में आए तो हर कोई हैरान रह गया। दरअसल उनके साथ खड़े मार्शल बिल्कुल अलग अंदाज़ में दिख रहे थे।