14 कोसी और पांच कोसी के बीच लाखों श्रद्धालुओं से भर गई है अयोध्या, इस वजह से परेशान है प्रशासन

कार्तिक महीने में अयोध्या श्रद्धालुओं से भर चुकी है। एक अनुमान के मुताबिक 15 से 20 लाख श्रद्धालु अयोध्या में मौजूद हैं। अयोध्या इस समय हाईअलर्ट पर है।

Written by: November 6, 2019 7:47 pm

नई दिल्ली। कार्तिक महीने में अयोध्या श्रद्धालुओं से भर चुकी है। एक अनुमान के मुताबिक 15 से 20 लाख श्रद्धालु अयोध्या में मौजूद हैं। अयोध्या इस समय हाईअलर्ट पर है। ऐसे में प्रशासन के सामने सबसे बड़ी चुनौती इस भीड़ को संतुलित रखने की है। राम मंदिर पर फैसला जल्द ही संभावित है।Ayodhya Ram Temple

कार्तिक मेले के मौके पर चौदह कोसी और पंचकोसी परिक्रमा के साथ कार्तिक पूर्णिमा स्नान होता है। लाखों की तादात में श्रद्धालु भी आते हैं, लेकिन इस बार यह सब तब हो रहा है जब अयोध्या में राम मंदिर मसले पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला आना है। प्रशासन को इस बार कम भीड़ आने का अंदेशा था। लेकिन 14 कोसी परिक्रमा में उमड़ी ज़बरदस्त भीड़ देखकर प्रशासन खासा अलर्ट पर है।

14 कोसी के बाद पंचकोसी में अलग-अलग चरणों में देश भर से आए श्रद्धालु पहले सरयू स्नान करते हैं फिर परिक्रमा पथ पर निकलते हैं। परिक्रमा पूरी करने के बाद श्रद्धालु श्रीरामजन्मभूमि में विराजमान रामलला, हनुमानगढ़ी, कनक भवन, श्री राम राजगद्दी और नागेश्वरनाथ समेत अन्य प्रमुख मंदिरों में दर्शन-पूजन करते हैं।

इस बीच प्रशासन सहयोग और सद्भावना की कोशिशें जारी रखे हुए है। हिंदू और मुस्लिम पक्षकार भी पहल कर रहे हैं। चौदह कोसी परिक्रमा के दौरान एक सराहनीय प्रयास की तस्वीर भी सामने आयी। श्रीरामजन्मभूमि के मुख्य पुजारी आचार्य सत्येंद्र दास और बाबरी मस्जिद के मुद्दई इकबाल अंसारी चौदह कोसी परिक्रमा में शामिल श्रद्धालुओं से रूबरू हुए। दोनों हिन्दू-मुस्लिम पक्षकार एक साथ परिक्रमा पथ पर पहुंचे। दोनों पक्षकारों ने परिक्रमा में शामिल होने आए श्रद्धालुओं को भाईचारे का संदेश दिया।