लालकृष्ण आडवाणी ने लिखा ब्लॉग, राजनीतिक असहमति का अर्थ ‘देश-विरोधी’ नहीं

भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी ने 6 अप्रैल को भाजपा के स्थापना दिवस को लेकर एक ब्लॉग लिखा। उन्होंने लिखा कि अपनी स्थापना से ही, भाजपा में जो लोग राजनीतिक रूप से हमारे विचार को नहीं मानते, को अपने दुश्मन नहीं बल्कि अपने विपक्षी के तौर पर देखा।

Written by Newsroom Staff April 4, 2019 7:39 pm

नई दिल्ली। भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी ने 6 अप्रैल को भाजपा के स्थापना दिवस को लेकर एक ब्लॉग लिखा। उन्होंने लिखा कि अपनी स्थापना से ही, भाजपा में जो लोग राजनीतिक रूप से हमारे विचार को नहीं मानते, को अपने दुश्मन नहीं बल्कि अपने विपक्षी के तौर पर देखा।

भारतीय राष्ट्रवाद की हमारी अवधारणा में, हमने हमारी राजनीतिक विचारधारा नहीं मानने वालों को देश विरोधी नहीं माना। पार्टी व्यक्तिगत और साथ ही राजनीतिक स्तर पर हर नागरिक की स्वतंत्रता के लिए प्रतिबद्ध है।

ब्लॉग में लाल कृष्ण आडवाणी ने लिखा, ‘यह मेरी ईमानदार इच्छा है कि हम सभी को सामूहिक रूप से भारत की लोकतांत्रिक शिक्षा को मजबूत करने का प्रयास करना चाहिए। सच है, चुनाव लोकतंत्र का त्योहार है, लेकिन ये भारतीय लोकतंत्र में सभी हितधारकों- राजनीतिक दलों, जन मीडिया, चुनाव प्रक्रिया का संचालन करने वाले प्राधिकारियों और सबसे ऊपर, मतदाताओं द्वारा ईमानदार आत्मनिरीक्षण के लिए भी एक अवसर हैं।

गांधीनगर सीट से टिकट कटने के बाद अपने ब्लॉग में लाल कृष्ण आडवाणी ने लिखा, ‘मैं गांधीनगर के लोगों के लिए अपनी कृतज्ञता व्यक्त करता हूं, जिन्होंने 1991 के बाद छह बार मुझे लोकसभा के लिए चुना है। उनके प्यार और समर्थन ने मुझे हमेशा अभिभूत किया है। मातृभूमि की सेवा करना मेरा जुनून और मेरा मिशन है।