भाजपा ने किया महाराष्ट्र में सरकार बनाने से इंकार, कांग्रेस और एनसीपी अब शिवसेना के करीब पहुंची

एक प्रमुख राजनीतिक घटनाक्रम में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने रविवार को स्वीकार किया कि चुनाव पूर्व गठबंधन को जनादेश मिलने के बावजूद वह महाराष्ट्र में सरकार बनाने की स्थिति में नहीं है।

Avatar Written by: November 10, 2019 7:54 pm

मुंबई। एक प्रमुख राजनीतिक घटनाक्रम में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने रविवार को स्वीकार किया कि चुनाव पूर्व गठबंधन को जनादेश मिलने के बावजूद वह महाराष्ट्र में सरकार बनाने की स्थिति में नहीं है।CM Devendra Fadnavis

भाजपा के राज्य ईकाई के अध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल ने कहा कि पार्टी कोर कमेटी की सुबह से व्यस्त बैठकों के बाद शाम को राज्यपाल बी.एस.कोश्यारी को पार्टी के रुख से अवगत करा दिया गया है।Chandrakant Patil, President BJP Maharashtra

पाटिल ने राजभवन के लॉन में मीडिया से संक्षिप्त बातचीत में कहा, “अगर शिवसेना, कांग्रेस-राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के सहयोग से सरकार बनाने की स्थिति में है तो हम उन्हें अपनी शुभकामनाएं देते हैं।”

कांग्रेस बोली महाराष्ट्र को लेकर विकल्प खुले हैं

कांग्रेस पार्टी के महाराष्ट्र प्रभारी मल्लिकार्जुन खड़गे ने रविवार को यहां पार्टी के 44 विधायकों के साथ एक बैठक की, और राज्य के मौजूदा राजनीतिक हालात पर उनके विचार जाने। इन विधायकों को जयपुर के एक रिसॉर्ट में रखा गया है। बैठक में कांग्रेस की राज्य इकाई के अध्यक्ष बालासाहेब थोरात और पूर्व मुख्यमंत्रियों अशोक चव्हाण और पृथ्वीराज चव्हाण ने भी हिस्सा लिया। खड़गे अब दिल्ली में पार्टी हाईकमान से मुलाकात करेंगे और बैठक के निष्कर्षो के बारे में उन्हें अवगत कराएंगे।rahul gandhi mallikarjun

सूत्रों ने कहा कि अधिकांश विधायकों को राज्य में शिवसेना के नेतृत्व वाली किसी सरकार को सशर्त समर्थन देने को लेकर आपत्ति नहीं है। सूत्रों ने कहा कि लेकिन पार्टी शिवसेना के साथ बातचीत पर तभी विचार करेगी, जब वह भाजपा नेतृत्व वाले राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) से अलग हो जाए और उसके एकमात्र मंत्री अरविंद सावंत केंद्रीय मंत्रिमंडल से इस्तीफा दे दें।sonia gandhi and sharad pawar 1

कांग्रेस नेता हुसैन दलवई ने कहा, “कांग्रेस को राज्य में उपलब्ध सभी विकल्प तलाशने चाहिए।” शिवसेना ने एक तरह के सुलह और संवाद का रास्ता साफ करने के लिए अपने मुखपत्र सामना में एक संपादकीय में कहा है कि कांग्रेस राज्य की दुश्मन नहीं है। इस बीच, शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने अपने विधायकों से मुलाकात की और राजनीतिक हालात पर चर्चा की। विधायकों को मुंबई के एक होटल में रखा गया है।sharad pawar & Sonia Gandhi

अब सारी नजरें राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) के अध्यक्ष शरद पवार पर है, जो मंगलवार को अपने विधायकों से मुलाकात करने वाले हैं। राकांपा नेता नवाब मलिक ने कहा, “हम उसी दिन इस मामले पर विचार करेंगे।”

मलिक ने कहा, “यदि भाजपा-शिवसेना सरकार बनाते हैं तो हम विपक्ष में बैठेंगे। अन्यथा हम एक वैकल्पिक सरकार की संभावना तलाशेंगे।”

महाराष्ट्र सरकार गठन पर देवड़ा और निरूपम की अलग-अलग राय

महाराष्ट्र में सरकार गठन को लेकर कांग्रेस के भीतर ही दो वरिष्ठ नेताओं की अलग-अलग राय है। मुंबई कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष मिलिंद देवड़ा जहां राज्यपाल की तरफ से दूसरे सबसे बड़े गठबंधन राकांपा-कांग्रेस को सरकार बनाने के निमंत्रण की उम्मीद कर रहे हैं, वहीं संजय निरूपम का कहना है कि यह असंभव है।sanjay Nirupam milind Deora

दोनों नेताओं की यह टिप्पणी ऐसे समय में आई है, जब एक दिन पहले शनिवार को राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी सबसे बड़ी पार्टी भाजपा को सरकार बनाने का निमंत्रण दिया था और पार्टी के विधायक दल के नेता देवेंद्र फडणवीस से सरकार बनाने की इच्छा और क्षमता के बारे में बताने को कहा था।sanjay nirupam rahul gandhi

देवड़ा ने ट्विटर पर कहा, “महाराष्ट्र के राज्यपाल को शिवसेना-भाजपा द्वारा सरकार गठन करने से इनकार करने के बाद दूसरे सबसे बड़े गठबंधन राकांपा-कांग्रेस को सरकार बनाने के लिए आमंत्रित करना चाहिए।”


देवड़ा के बयान से उलट निरूपम ने ट्वीट किया, “मौजूदा राजनीतिक गणित के हिसाब से, कांग्रेस-राकांपा के लिए किसी भी प्रकार से सरकार बनाना असंभव है। उसके लिए, हमें शिवसेना की आवश्यकता होगी। हमें किसी भी हालात में शिवसेना के साथ सत्ता साझा करने के बारे में नहीं सोचना चाहिए। यह पार्टी के लिए काफी खतरनाक निर्णय होगा।”


कांग्रेस और राकांपा दोनों भाजपा द्वारा विधायकों की खरीद-फरोख्त की संभावना से चिंतित हैं। कांग्रेस ने अपने विधायकों को राजस्थान में जयपुर के एक रिसॉर्ट में ठहराया है, वहीं राकांपा ने 12 नवंबर को बैठक बुलाई है।