इधर अजित पवार से मिले बीजेपी प्रतिनिधि, उधर कांग्रेसमय हुआ सामना, महाराष्ट्र में “कुछ” तो पक रहा है!

अजित पवार अपनी गतिविधियों से राजनीतिक पंडितों को हैरान कर रहे हैं। इस मुलाकात को लेकर प्रदेश के सियासी गलियारों में अटकलबाजियों का दौर एक बार फिर से शुरू हो गया है। हालांकि सफाई देते हुए अजित पवार ने इसे शिष्‍टाचार भेंट बताया।

Written by: November 30, 2019 1:11 pm

नई दिल्ली। महाराष्ट्र का सस्पेंस फिलहाल अभी खत्म होते नहीं दिखाई दे रहा है। एक के बाद एक दूसरी घटनाएं इसी बात की पुष्टि कर रही हैं। दो बातें बेहद अहम हैं। पहली अजित पवार का अब तक शपथ ना लेना और दूसरी उनका बीजेपी नेताओं के संपर्क में होना।

ajit pawar fadanvis

उधर शिवसेना का मुखपत्र सामना पूरी तरह कांग्रेसमय हो चुका है। उसमें कांग्रेस की जमकर तारीफ की जा रही है।

Congress Shivsena NCP

साल 2019 के महाराष्ट्र विधानसभा चुनावों में अजित पवार एक अहम चेहरा बनकर सामने आए हैं। बीजेपी के खेमे में घुसकर एनसीपी में घरवापसी कर चुके अजित पवार के काम बार बार आशंका पैदा कर रहे हैं। तेज़ होती अटकलों के बीच शनिवार सुबह अजित पवार बीजेपी के दिग्गज नेता प्रताप चिखलीकर से मिले। चिखलीकर नांदेड़ से बीजेपी सांसद हैं।

ajit pawar

अजित पवार अपनी गतिविधियों से राजनीतिक पंडितों को हैरान कर रहे हैं। इस मुलाकात को लेकर प्रदेश के सियासी गलियारों में अटकलबाजियों का दौर एक बार फिर से शुरू हो गया है। हालांकि सफाई देते हुए अजित पवार ने इसे शिष्‍टाचार भेंट बताया। मगर लोग इतनी आसानी से अजित पवार की सफाई समझने को तैयार नहीं हैं। यह वही प्रताप चिखलीकर हैं, जिन्‍होंने लोकसभा चुनाव में कांग्रेसी दिग्‍गज अशोक चह्वाण को उनके गढ़ में मात दी थी।

ajit pawar

भीतर खाने में चल रही गतिविधियों पर चुप्पी साधे बैठी यह पार्टियां ऊपर ऊपर एक दूसरे के साथ एकजुटता का दावा कर रही हैं। हालांकि ऊपरी तौर पर अजित पवार खुद को महाविकास आघाडी के साथ बता रहे हैं। अजित पवार ने सरकार गठन से पूर्व शिवसेना के वरिष्‍ठ नेता और सांसद संजय राउत के 170 से ज्‍यादा विधायकों के समर्थन के दावा पर भी प्रतिक्रिया दी है। उन्‍होंने संजय राउत की ओर से विधायकों के समर्थन को लेकर किए गए दावे को पूरा करने की बात कही है।