दिल्ली में औरंगजेब के नाम पर फिर कालिख, गुरु तेगबहादुर के देश में औरंगज़ेब का क्या काम?

दिल्ली में एक बार फिर से औरंगजेब के नाम पर कालिख पोती गई। इस बार यह काम दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी ने किया है। कमेटी ने दिल्ली की औरंगजेब लेन के बोर्ड पर काली स्याही पोत दी है।

Written by: December 1, 2019 6:21 pm

नई दिल्ली। दिल्ली में एक बार फिर से औरंगजेब के नाम पर कालिख पोती गई। इस बार यह काम दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी ने किया है। कमेटी ने दिल्ली की औरंगजेब लेन के बोर्ड पर काली स्याही पोत दी है। कमेटी ने सवाल उठाया कि जिस लेन का नाम श्री गुरु तेग बहादुर जी के नाम पर होना चाहिए, उसका नाम औरंगजेब के नाम पर क्यों?

aurangzeb road

अकाली दल से विधायक और दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधन कमिटी के अध्यक्ष मनजिंदर सिंह सिरसा की अगुवाई में औरंगजेब के नाम पर कालिख पोतने  का काम किया गया। सिरसा की अगुवाई में उनके समर्थकों ने औरंगजेब लेन के बोर्ड को काले रंग के स्प्रे से मिटाने की कोशिश की। इससे पहले दिल्ली के भीतर औरंगजेब रोड का नाम बदलकर एपीजे अब्दुल कलाम रोड किया जा चुका है।

aurangzeb road

उस वक्त भी औरंगजेब के नाम पर रोड होने का जमकर विरोध किया गया था। मगर औरंगजेब लेन फिर भी रह गई थी। इसका नाम नहीं बदला गया। सिरसा ने इस विरोध को लेकर कहा कि औरंगजेब एक क्रूर शासक था जिसने तलवार की नोक पर धर्मांतरण कराया था।

aurangzeb road

अहम बात यह भी रही कि आज श्री गुरुतेग बहादुर सिंह जी की शहादत का दिन है। यही वजह है कि गुरु तेग बहादुर के अनुयायियों ने सवाल उठाया कि औरंगजेब के नाम पर प्रतीकों का नाम रखकर उनकी शहादत की अवमानना की जा रही है। समर्थकों ने यह भी मांग की कि देश के इतिहास से औरंगजेब का नाम हटाया जाए।

aurangzeb road

उधर इस बाबत दिल्ली पुलिस का कहना है कि अभी उनके पास कोई लिखित शिकायत नहीं आई है। यदि शिकायत आती है तो वे उचित कार्रवाई करेंगे।