भगोड़े नीरव मोदी का प्रत्यर्पण कराने आज लंदन रवाना हो सकती है सीबीआई और ईडी की टीम

29 मार्च को नीरव मोदी के वकील दूसरी बार उसकी जमानत याचिका दायर करेंगे। लंदन स्थित वेस्टमिन्स्टर मजिस्ट्रेट कोर्ट में 29 मार्च को सुनवाई की जाएगी। भारत की जांच एजेंसी ED टीम चाहती है कि मनी लॉन्ड्रिंग के मामले में नीरव मोदी का भारत में प्रत्यर्पण हो।

Written by: March 27, 2019 5:52 pm

नई दिल्ली। पीएनबी घोटाले के मुख्य आरोपी और भगोड़े हीरा कारोबारी नीरव मोदी के भारत प्रत्यर्पण पर 29 मार्च को लंदन के कोर्ट में सुनवाई होगी। सुनवाई में शामिल होने के लिए भारत से सीबीआई (CBI) और ईडी (ED) की संयुक्त टीम बुधवार शाम लंदन के लिए रवाना होगी। बता दें, अभी नीरव मोदी हिरासत में हैं।

29 मार्च को नीरव मोदी के वकील दूसरी बार उसकी जमानत याचिका दायर करेंगे। लंदन स्थित वेस्टमिन्स्टर मजिस्ट्रेट कोर्ट में 29 मार्च को सुनवाई की जाएगी। भारत की जांच एजेंसी ED टीम चाहती है कि मनी लॉन्ड्रिंग के मामले में नीरव मोदी का भारत में प्रत्यर्पण हो। भगोड़ा कारोबारी नीरव मोदी और उसकी कंपनी पर है करीब दो अरब डॉलर के मनी लॉन्ड्रिंग का आरोप लगा है।

Enforcement Directorate

प्रवर्तन निदेशालय के अधिकारी अपने साथ एजेंसी द्वारा हाल ही में नीरव मोदी की पत्नी एमी के खिलाफ दायर किये गये आरोप पत्र और इस मामले में हाल में की गयी कुर्की से जुड़े दस्तावेज सहित अन्य जरूरी दस्तावेज अपने साथ ले जायेंगे। भारतीय अधिकारी ब्रिटेन के क्राउन प्रोसिक्यूशन सर्विस (सीपीएस) के अधिकारियों सहित अन्य अधिकारियों से मिलेंगे और उन्हें नीरव मोदी, उनके परिवार और अन्य के खिलाफ आरोपों और इस मामले के ताजा सबूतों की जानकारी देंगे।

लंदन स्थित कोर्ट में जज चीफ मजिस्ट्रेट एम्मा अबार्ट की अदालत में सुनवाई होगी। चीफ मजिस्ट्रेट एम्मा अबार्ट ने ही विजय माल्या के प्रत्यर्पण मामले में फैसला दिया था। हालांकि नीरव मोदी की गिरफ्तारी के बाद जज मैरी मालोन ने जमानत देने से इंकार किया था। इस मामले में नीरव मोदी ने ब्रिटेन की जईवाला एंड कंपनी नाम की लॉ फर्म से कानूनी मदद ले रहा है।